Assessing Virat Kohli on the basis of IPL performance would be wrong, says childhood coach Rajkumar Sharma
Virat Kohli © BCCI

भारतीय टीम के कप्‍तान विराट कोहली की कप्‍तानी पर आईपीएल 2019 में बेंगलोर के खराब प्रदर्शन के बाद सवाल उठने लगे हैं। टीम अपने लगातार छह मुकाबले हार चुकी है। हालांकि कोहली के बचपन के कोच राजकुमार शर्मा का अब भी उनमें पूरी तरह से विश्‍वास बना हुआ है। उन्‍होंने आईपीएल के प्रदर्शन के आधार पर आकलन करने को गलत करार दिया और कहा कि इस स्टार बल्लेबाज को विश्व कप से पहले विश्राम की जरूरत नहीं है।

पढ़ें:- राजस्‍थान के लिए पारी की शुरुआत करने से मेरा खेल पहले से अच्‍छा हुआ: जोस बटलर

कोहली का भारतीय कप्तान के रूप में रिकॉर्ड शानदार रहा है। उनकी अगुवाई में भारत ने अब तक 46 टेस्ट मैचों में से 26 में, 68 वनडे में से 49 में और 22 टी20 अंतरराष्ट्रीय में से 12 में जीत दर्ज की है। शर्मा ने कहा, ‘‘मेरा ये मानना कि आईपीएल के प्रदर्शन से विराट की कप्तानी का आकलन करना गलत है क्योंकि वह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर दिखा चुके हैं कि वह बेहद सफल कप्तान हैं। उनकी अगुवाई में भारत टेस्ट में नंबर एक टीम बनी और वनडे में टीम नंबर दो पर है। हमने उनकी कप्तानी में लगातार 10-11 सीरीज जीती है।’’

पढ़ें:- IPL के प्रदर्शन पर विराट को आंका नहीं जा सकता- दिलीप वेंगसरकर

उन्होंने कहा, ‘‘कप्तानी में उनका रिकॉर्ड शानदार है। आईपीएल में कुछ मैच हार जाने से यह कहना कि वह एक अच्छे कप्तान नहीं है, गलत है। वह बेहतरीन कप्तान हैं जो हमेशा सकारात्मक कप्तानी करता है। दुर्भाग्य से उनकी टीम अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पा रही है लेकिन उम्मीद है कि आगे वह अच्छा खेल दिखाएगी। ’’ इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन ने कोहली को ब्रिटेन में 30 मई से शुरू होने वाले विश्व कप से पहले विश्राम देने के लिये कहा था लेकिन शर्मा ने उनके इस सुझाव को सिरे से खारिज कर दिया।

उन्होंने कहा, ‘‘मैं वॉन से सहमत नहीं हूं। विराट को विश्राम की बिल्कुल भी जरूरत नहीं है। वो ऐसा खिलाड़ी है जो चुनौतियां स्वीकार करता है और अपने प्रदर्शन से जवाब देता है। ऐसा नहीं है कि उनका मनोबल गिरा है।’’

पढ़ें:- पूर्व चयनकर्ता ने नंबर 4 के लिए सुझाया इस बल्लेबाज का नाम

शर्मा ने कहा कि कोहली का लक्ष्य भारत को खेल के हर प्रारूप में नंबर एक बनाना है। ‘‘भारत ने उनकी कप्तानी में शानदार प्रदर्शन किया है और आगे भारतीय टीम अच्छा प्रदर्शन करेगी। यह कहना सही नहीं है कि आईपीएल के कुछ मैच हार जाने से उनका मनोबल गिरा होगा। वो बेहद सकारात्मक खिलाड़ी है। उनका लक्ष्य भारत को हर प्रारूप में नंबर एक बनाना है। ’’