Australia captain Aaron Finch will miss English crowd ‘banter’
ऑस्ट्रेलिया के कप्तान एरोन फिंच (Twitter)

ऑस्ट्रेलियाई सीमित ओवर फॉर्मेट क्रिकेट टीम के कप्तान एरोन फिंच का कहना है कि उन्हें इंग्लैंड के खिलाफ आगामी सीरीज में इंग्लिश फैंस के बैंटर की कमी खलेगी। दरअसल कोविड वायरस से बचाव के लिए सभी अंतरराष्ट्रीय मैच बिना दर्शकों को बायो सिक्योर बबल में खेले जा रहे हैं।

4 सितंबर से शुरू होने वाली तीन मैचों की टी20 और तीन मैचों की वनडे सीरीज के लिए इंग्लैंड पहुंच चुकी कंगारू टीम के कप्तान फिंच ने कहा कि दर्शकों की गैरमौजूदगी से खेल की गंभीरता में कोई कमी नहीं आएगी।

बुधवार को मीडिया के सामने आए फिंच ने कहा, “मनोरंजन करने के लिए दर्शकों का होना हमेशा ही अच्छा होता है और इंग्लिश दर्शकों से जो बैंटर मिलता है वो खास होता है।”

याद दिला दें कि पिछले साल विश्व कप के दौरान जब ऑस्ट्रेलिया टीम के स्टार खिलाड़ी स्टीव स्मिथ और डेविड वार्नर दो साल के बैन के बाद वापसी कर रहे थे, तब इंग्लिश फैंस ने इन बल्लेबाजों का काफी विरोध किया था।

इंग्लैंड दौरे के लिए रवाना हुई ‘सुपर-फिट’ ऑस्ट्रेलिया टीम

इस पर फिंच ने कहा, “क्या वो कभी कभार हद पार करते हैं? शायद, हां। इसका हिस्सा बनना अच्छा होता है, खासकर जब आप इंग्लैंड को वहां हराते हैं तब।”

ऑस्ट्रेलिया टीम के लिए जहां ये कोरोना वायरस ब्रेक के बाद पहली सीरीज होगी, वहीं इंग्लैंड टीम वेस्टंडीज और पाकिस्तान के खिलाफ 6 टेस्ट मैच खेल चुकी है, जबकि शुक्रवार से पाकिस्तान के खिलाफ तीन टी20 मैचों की सीरीज भी खेलने वाली है।

कप्तान फिंच ने कहा, “मैंने घर से ये सब देखा है। जाहिर है कि बिना दर्शकों के खेलना थोड़ा अलग होगी लेकिन आखिर में बतौर क्रिकेटर हम 95 प्रतिशत मैच कम दर्शकों के सामने ही खेलते हैं, इसलिए हमें इसकी आदत है।”

फिर इंग्‍लैंड का दौरा करेगी वेस्‍टइंडीज की टीम, टी20 सीरीज में होगा आमना-सामना

इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज के दौरान ऑस्ट्रेलिया टीम मार्च के बाद पहली बार मैदान पर उतरेगी। इस पर फिंच ने कहा, “हमने सिडनी में न्यूजीलैंड के खिलाफ मैच, जो हमारा आखिरी मैच था बिना दर्शकों के ही खेला था इसलिए मुझे नहीं लगता कि हमें किसी अतिरिक्त प्रेरणा की जरूरत नहीं पड़ेगी, ना ही हमारा उत्साह बढ़ाने के लिए दर्शकों की जरूरत होगी, वैसे भी यूके में हमें ये मिलने नहीं वाला।”

उन्होंने कहा, “आखिर में हम अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेल रहे हैं। बात हमेशा अपने प्रदर्शन पर गर्व करने और देश का प्रतिनिधित्व करने पर आएगी। ये अलग होगा लेकिन मुझे नहीं लगता कि इससे खेल की गंभीरता कम होगी।”