स्टीवन स्मिथ © AFP (File Photo)
स्टीवन स्मिथ © AFP (File Photo)

कोई भी खेल अंधविश्वास से अछूता नहीं रहता और ज्यादातर खिलाड़ी अपने प्रदर्शन को सुधारने या फिर और अच्छा करने के लिए अंधविश्वास का सहारा लेते रहते हैं। क्रिकेट में भी खिलाड़ी टोटकों का सहारा लेकर अपने प्रदर्शन को और अच्छा करने की कोशिश करते रहते हैं। फिर चाहे वो क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर ही क्यों ना हों। तेंदुलकर हमेशा अपने बाएं पैड को पहले पहनते थे। वहीं भारत के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली भी जेब में हमेशा अपने गुरु की फोटो रखते थे। ये अंधविश्वास या टोटका भारत तक ही सीमित नहीं है। हाल ही में एक वीडियो जारी हुआ है, जिसमें स्टीवन स्मिथ को भी टोटकों का इस्तेमाल करते देखा गया है। वीडियो में स्मिथ कह रहे हैं कि वह बल्लेबाजी करने से पहले हमेशा फिजियो से कहते हैं कि उनके जूतों के फीते कुछ इस अंदाज में अंदर की तरफ चिपकाएं, ताकि बल्लेबाजी के दौरान उन्हें अपने फीते दिखाई ना दें। [ये भी पढ़ें: भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया धर्मशाला टेस्ट का पूरा स्कोरकार्ड यहां देखें]

स्मिथ ने बताया कि उन्होंने ऐसा करना साल 2016 के आईपीएल से शुरू किया था। जैसे ही उन्होंने ऐसा किया वैसे ही उन्होंने शतक ठोक दिया। जिसके बाद वो हर मैच में ही ऐसा करने लगे। वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि जब जोश हेजलवुड ने स्मिथ को ऐसा करते हुए पहली बार देखा तो वह अपनी हंसी नहीं रोक पाए। वहीं टीम के अन्य खिलाड़ी उस्मान ख्वाजा ने कहा कि स्मिथ इस टोटके पर इसलिए विश्वास करते हैं, क्योंकि उन्होंने जब उसे पहली बार अपनाया तो वह कारगर साबित हुआ। स्मिथ ने कहा, ”मैंने ऐसा करना आईपीएल के दौरान शुरू किया था और इसका कारण पुणे सुपरजाइंट द्वारा दी गई हुई पैंट थी। मुझे हमेशा बल्लेबाजी करते हुए अपने जूते देखने में दिक्कत महसूस होती थी और ऐसा मैं नहीं कर पाता था, क्योंकि पैंट काफी छोटी थी, जिससे की जूते के फीते बाहर निकल आते थे। जो मेरे दिमाग पर असर डालते थे। इसके बाद मैंने अपने फिजियो से कहा कि फीतों को मोजों में चिपका दें। मैंने जब पहली बार ऐसा किया तो शतक लगा दिया और उसके बाद से मैं हमेशा ऐसा करता आ रहा हूं।” स्मिथ मौजूदा भारत दौरे पर लगातार रन बना रहे हैं और उन्होंने चार मैचों की सीरीज में 3 शतक ठोके हैं। इसके अलावा इस बार के आईपीएल में भी वह पुणे टीम के कप्तान हैं।