Australia regain the Ashes; Beat England by an innings and 41 runs in Perth
स्मिथ पर्थ टेस्ट में मैन ऑफ द मैच रहे © Getty Images

पर्थ टेस्ट में इंग्लैंड को एक पारी और 41 रनों के बड़े अंतर से हराकर ऑस्ट्रेलिया ने एशेज सीरीज पर कब्जा कर लिया है। 73वें ओवर में पैट कमिंस की गेंद पर क्रिस वोक्स के आउट होते ही ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीवन स्मिथ ने एशेज के इतिहास में अपना नाम दर्ज कर लिया। ये जीत ऑस्ट्रेलिया के लिए काफी खास है क्योंकि ये कंगारू टीम की 33वीं एशेज सीरीज जीत है। ऑस्ट्रेलिया ने 32 बार एशेज सीरीज जीत चुकी इंग्लैंड को पीछे छोड़कर ट्रॉफी पर कब्जा किया है। मैच के आखिरी दिन ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज जॉश हेजलवुड ने शानदार पांच विकेट पूरा किया। वहीं नाथन लायन और पैट कमिंस ने भी 2-2 विकेट झटके। हालांक पर्थ टेस्ट की सारी लाइमलाइट मिचेल स्टार्क की उस बेहतरीन गेंद को मिली, जिस पर उन्होंने अर्धशतक बना चुके जेम्स विंस को आउट किया था।

मैच के पहले इंग्लैंड के कप्तान जो रूट ने टॉस जरूर जीता था लेकिन उसके बाद कुछ भी उनके हक में नहीं गया। पहली पारी में इंग्लैंड टीम के टॉप तीन बल्लेबाज सस्ते में आउट हो गए। मध्यक्रम के बल्लेबाज डेविड मलान और जॉनी बियरस्टो की शतकीय पारियों की मदद से इंग्लैंड टीम ने 403 का स्कोर खड़ा किया। जवाब में ऑस्ट्रेलिया ने 662 रनों का विशाल स्कोर खड़ा किया। दूसरी पारी में कप्तान स्टीवन स्मिथ ने धमादेकर दोहरा शतक जड़ा, वहीं मिचेल मार्श ने भी 181 रनों की पारी खेली। इंग्लैंड की ओर से जेम्स एंडरसन ने 4 विकेट लिए लेकिन बाकी कोई गेंदबाज प्रभावित नहीं कर सका।

मिचेल स्टार्क की घातक गेंद पर सचिन तेंदुलकर, डॉन ब्रैडमैन भी हजार बार आउट हो जाते: ग्रीम स्वान
मिचेल स्टार्क की घातक गेंद पर सचिन तेंदुलकर, डॉन ब्रैडमैन भी हजार बार आउट हो जाते: ग्रीम स्वान

मैच के चौथे दिन 259 रनों की विशाल बढ़त के सामने बल्लेबाजी करने उतरी इंग्लैंड टीम ताश के पत्तों की तरह बिखर गई। एलेस्टर कुक और जो रूट एक बार फिर फेल रहे। जेम्स विंस ने 55 रनों की पारी जरूर खेली लेकिन चौथे दिन के आखिर तक स्टार्क ने उन्हेंप पवेलियन भेज दिया। पांचवें दिन डेविड मलान और जॉनी बियरस्टो पहली पारी का कमाल दोहराने में नाकाम रहे। बियरस्टो दिन की शुरुआत में हेजलवुड के शिकार बनें।

67वें ओवर में डेविड मलान के 54 रन पर आउट होने के बाद कोई भी बल्लेबाजी क्रीज पर नहीं टिका। कमिंस और हेजलवुड ने पुछल्ले बल्लेबाजों को आउट कर इंग्लैंड को 218 रनों पर समेटा। इंग्लैंड की टीम इस मुकाबले में कभी ऑस्ट्रेलिया के बराबर आ ही नहीं पाई और तीनों मैच हारकर मुकाबले से पूरी तरह बाहर हो गई। इंग्लैंड के पास अब भी बाकी दो मैच जीतकर क्लीन स्वीप से बचने का मौका है।