होबार्ट टेस्ट में शीर्ष क्रम के फेल होने के बाद ऑस्ट्रेलिया ने ट्रेविड हेड (Travid Head) के शतक और कैमरून ग्रीन (Cameron Green) की अर्धशतकीय पारी की मदद से दूसरे दिन 303 रन का स्कोर खड़ा किया। इंग्लैंड के लिए स्टुअर्ट ब्रॉड (Stuart Broad) और मार्क वुड (Mark Wood) ने तीन-तीन विकेट लिए। वहीं ओली रॉबिन्सन (Ollie Robinson) और क्रिस वोक्स (Chris Woakes) को दो-दो सफलताएं मिली।

मैच के पहले दिन टॉस हारने के बाद पहले बल्लेबाजी करने उतरी ऑस्ट्रेलिया टीम ने मात्र 12 रन पर अपने तीन शीर्ष क्रम बल्लेबाजों के विकेट खो दिए। डेविड वार्नर बिना खाता खोले ओली रॉबिन्सन की गेंद पर कैच आउट हुए। जिसके बाद पिछले मैच में दो शतक जड़ने वाले उस्मान ख्वाजा मात्र 6 रन बनाकर स्टुअर्ट ब्रॉड के शिकार बने।

ऑस्ट्रेलिया के स्टार बल्लेबाज स्टीव स्मिथ भी बिना खाता खोले रॉबिन्सन की गेंद पर कैच आउट हुए। जिसके बाद मार्नस लाबुशाने ने ट्रैविड हेड के साथ मिलकर अर्धशतकीय साझेदारी बनाई। 23वें ओवर में लाबुशाने 44 रन बनाकर अजीबोंगरीब शॉट खेलने की कोशिश में ब्रॉड की गेंद पर बोल्ड हो गए।

83 रन पर चार विकेट गिरने के बाद हेड ने कैमरून ग्रीन के साथ मिलकर 121 रनों की ठोस साझेदारी बनाकर ऑस्ट्रेलिया की मैच में वापसी कराई। हेड ने 113 गेंदो पर 12 चौकों की मदद से 101 रनों की पारी खेली। 49वें ओवर में क्रिस वोक्स ने हेड को रॉबिन्सन के हाथों कैच आउट करा इस साझेदारी को तोड़ा।

हेड के आउट होने के बाद ग्रीन ने एलेक्स कैरी के साथ पारी को संभालने की कोशिश की लेकिन वो 58वें ओवर में मार्क वुड के शिकार बने। ग्रीन ने 109 गेंदो पर आठ चौकों की मदद से 74 रनों की पारी खेली। पहले दिन का खेल खत्म होने तक ऑस्ट्रेलिया ने 6 विकेट खोकर 241 रन का स्कोर खड़ा किया था।

मैच के दूसरे इंग्लैंड ने पहले ही सेशन में ऑस्ट्रेलियाई पारी को समेट दिया। कैरी ने 60 गेंदो पर 24 रनों की पारी खेली। वहीं स्पिनर नाथन लियोन ने 27 गेंदो पर एक चौके और तीन छक्कों की मदद से 31 रन जड़े। जिसकी बदौलत ऑस्ट्रेलिया ने 300 का आंकड़ा पार किया।