Australia vs India: I don’t know how to describe this win, says Indian captain Ajinkya Rahane
हनुमा विहारी, अजिंक्य रहाणे (Twitter)

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ गाबा टेस्ट में ऐतिहासिक जीत हासिल कर अजिंक्य रहाणे ने भारतीय टीम को बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी जिताई। विराट कोहली की गैरमौजूदगी में भारतीय टीम की कमान संभाल रहे रहाणे ने कहा है कि इस जीत को बयां करना उनके लिए बेहद मुश्किल है।

रहाणे ने मैच के बाद कहा, “ये जीत काफी मायने रखती है। मुझे नहीं पता कि इस जीत को कैसे बयां करूं। मुझे अपनी टीम के खिलाड़ियों पर गर्व है, हर किसी पर। हम सिर्फ अपना सर्वश्रेष्ठ देना चाहते थे परिणाम के बारे में नहीं सोच रहे थे।”

उन्होंने कहा, “जब मैं बल्लेबाजी करने गया था तो मेरे और चेतेश्वर पुजारा के बीच यही बात हो रही थी कि पुजारा को सामान्य बल्लेबाजी करनी हैं और मुझे अपने शॉट्स खेलने हैं क्योंकि हम जानते थे कि आगे पंत और मयंक हैं। पुजारा को श्रेय देना होगा। उन्होंने जिस तरह से दबाव का सामना किया वो शानदार है। अंत में पंत ने भी बेहतरीन काम किया।”

‘कोशिश करने वालों की हार नहीं होती’, फैंस ने मनाया भारत की ऐतिहासिक जीत का जश्न

युवा बल्लेबाजों शुबमन गिल और रिषभ पंत ने अर्धशतकीय पारियां खेलकर टीम को जीत दिलाई। मैन ऑफ द मैच का खिताब पंत 89 रन बनाने वाले पंत को मिला। हालांकि रहाणे ने गेंदबाजों को भी जीत का बराबर श्रेय दिया।

रहाणे ने कहा, “20 विकेट लेना अहम था। इसलिए हमने पांच गेंदबाज चुने। वॉशिंगटन सुंदर टीम में संतुलन लेकर आए। सिराज ने दो टेस्ट मैच खेले थे, सैनी ने एक मैच खेला था। ठाकुर ने भी एक मैच खेला था। नटारजन भी पदार्पण किया था। ऐसी टीम के साथ मैच और सीरीज जीतना कितना अहम है, यह शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता।”

भारत के लिए यह सीरीज आसान नहीं थी। एडिलेड में पहले टेस्ट मैच में मिली शर्मनाक हार के बाद भारत के नियमित कप्तान कोहली भी अपने पहले बच्चे के जन्म के लिए स्वदेश लौट गए थे। ऐसे में सभी ने भारत को नकार दिया था। लेकिन रहाणे की कप्तानी में टीम ने बेहद दमदार वापसी की और मुख्य खिलाड़ियों के चोटिल होने के बाद भी ऐतिहासिक जीत दर्ज की।

रहाणे ने कहा, “एडिलेड में मिली हार के बाद हमने इस बात पर चर्चा ही नहीं की थी कि क्या हुआ था। हम सिर्फ अपना खेल खेलना चाहते थे, अच्छी सोच, मैदान पर अच्छी प्रतिद्वंदिता दिखाना चाहते थे। यह टीम प्रयास की बात है।”