पाकिस्तान के खिलाफ गाबा टेस्ट में 100 का आंकड़ा पार करते ही डेविड वार्नर (David Warner) ने अपने टेस्ट करियर में दो साल से पड़ा शतकों को सूखा खत्म किया। 170 गेंदो पर 99 रन बना चुके वार्नर ने आखिरी एक रन के लिए 10 गेंद खेली और 180 गेंदो पर 22वां टेस्ट शतक पूरा किया। वार्नर के बल्लेबाज से आया ये शतक 26 दिसंबर, 2017 के बाद उनका पहला शतक है।

आज के मैच में किस्मत भी वार्नर के पक्ष में रही। मैच के 27वें ओवर में अपना डेब्यू मैच खेल रहे युवा तेज गेंदबाज नसीम शाह (Naseem Shah) ने अर्धशतक बना चुके वार्नर को विकेट के पीछे कैच आउट करा दिया था। लेकिन वो गेंद नो बॉल थी और वार्नर को पहला जीवनदान मिला। जिसके बाद 44वें ओवर में वार्नर यासिर शाह (Yasir Shah) के हाथों रन आउट होने से भी बाल बाल बचे।

गौरतलब है कि 2017 की एशेज सीरीज में इंग्लैंड के लिए डेब्यू कर रहे टॉम कर्रन ने भी उस समय ऑस्ट्रेलियाई टीम के उप कप्तान रहे वार्नर को 99 रन पर आउट किया था। लेकिन बाद में इस गेंद को नो बॉल करार दिया गया था और वार्नर नॉट आउट रहे थे। वार्नर ने उस बॉक्सिंग डे टेस्ट में 103 रन की पारी खेली थी जो कि गाबा टेस्ट से पहले उनका आखिरी शतक था।

टी ब्रेक से पहले के आखिरी 51वें ओवर की छठीं गेंद पर कवर्स की तरफ खेलकर वार्नर ने एक रन पूरा किया और 99 के स्कोर पर पहुंचे। वार्नर के साथी जो बर्न्स (Joe Burns) ने उन्हें दूसरे रन के लिए बुलाना चाहा लेकिन वार्नर ने खतरा ना लेने का फैसला किया और दूसरा सेशन खत्म होने के बाद वो 99 पर फंसे रहे।

KPL स्पॉट फिक्सिंग मामला: जांच पूरी होने तक नहीं खेला जाएगा अगला सीजन

तीसरे सेशन के पहले ओवर में वार्नर ही स्ट्राइक पर थे लेकिन उन्होंने शाहीन आफरीदी (Shaheen Afridi) के खिलाफ छह गेंदो में एक भी रन नहीं लिया। पिछली 10 टेस्ट पारियों में मात्र 95 रन बना पाए वार्नर 99 के स्कोर पर कोई गलती नहीं करना चाहते थे। अगले ओवर में यासिर की आखिरी गेंद पर एक रन लेकर वार्नर ने अपना 22वां टेस्ट शतक जड़ा और हवा में ऊंची छलांग लगाकर जश्न मनाया।

बॉल टैंपरिंग मामले में लगे एक साल के बैन के बाद टेस्ट टीम में लौटे स्टीव स्मिथ (Steve Smith) ने जहां एशेज सीरीज में रनों की बारिश कर दी थी, वहीं वार्नर की किस्मत उतनी अच्छी नहीं रही। इंग्लिश तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड (Stuart Broad) के खिलाफ सात बार आउट हुए वार्नर को इस सीरीज में एक बड़ी पारी की बेहद जरूरत थी जो उन्होंने आज बनाई।