रविचंद्रन अश्विन © Getty Images
रविचंद्रन अश्विन © Getty Images

ऑस्ट्रेलिया ने अपनी मेजबानी में पाकिस्तान को टेस्ट सीरीज में 3-0 से करारी शिकस्त दी। अब ऑस्ट्रेलिया के सामने अगली चुनौती भारत की होगी। कंगारुओं को इस बात का बखूबी एहसास होगा कि अगर भारत को उन्हीं की धरती में हराना है तो उनकी टीम को एड़ी- चोटी का जोर लगाना होगा। दुनिया की नंबर एक टेस्ट टीम को हराने के लिए ऑस्ट्रेलिया को अपनी पूरी ताकत झोंकनी होगी। भारत दौरे पर ऑस्ट्रेलिया का रिकॉर्ड अच्छा नहीं रहा है। अपने आखिरी दौरे पर टीम को हार का मुंह देखना पड़ा था और 4-0 से करारी हार का सामना करना पड़ा था।

आखिरी भारत दौरे पर आने वाले कई ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों ने स्वदेश लौटने के बाद भारत को घरेलू पिचों के फायदे का रोना रोया था। भारत के बेहतरीन फिरकी गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन ने कहा कि अगर भारत आने के बाद ऑस्ट्रेलिया घरेलू पिचों का बहाना करेगा तो ये उनकी कमजोरी दर्शाएगा। अगर विदेशी टीमें भारत में आतीं हैं तो उन्हें काफी मेहनत करनी पड़ेगी। अश्विन ने आगे कहा कि हाल ही में हमें देखने को मिला है कि इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया के खिलाड़ियों ने भारत दौरे पर आने के बाद पिचों का मुद्दा बनाया है जो उनकी उदास मानसिकता को दिखाता है। जब भी ये टीमें किसी और की मेजबानी में खेलतीं हैं तो उन्हें हार का डर सताता रहता है। लेकिन आप भारतीय खिलाड़ियों को ऐसी शिकायत करते कभी नहीं देखेंगे। इसके पीछे दो कारण हैं, पहला ये कि हम ऐसा कभी नहीं कहते और दूसरा ये कि अगर कोई ऐसा कहता है तो उसे तूल भी नहीं देते।  ये भी पढ़ें: इंग्लैंड के खिलाफ दूसरे टी20 मैच में खेल सकते हैं अमित मिश्रा

भारत के टेस्ट प्रदर्शन की बात करें तो टीम पिछले साल अजेय रही थी और न्यूजीलैंड, इंग्लैंड का सूपड़ा साफ किया था। ऐसे में भारत के बेहतरीन प्रदर्शन को देख कर कयास लगाए जा रहे हैं कि टीम ऑस्ट्रेलिया को भी करारी शिकस्त देगी। अश्विन ने कहा, ”विराट कोहली की कप्तानी में भारत बेहतरीन खेल दिखा रहा है और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ भी टीम अपनी पूरी ताकत झोंक देगी। कोहली टीम के सामने उदाहरण पेश करते हैं और किसी भी परिस्थिति में हार नहीं मानते। भले ही विरोधी टीमें कितने भी रन बना लें लेकिन कोहली हार नहीं मानते।” आपको बता दें कि भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच 4 मैचों की टेस्ट सीरीज खेली जानी है।