Australian coach Justin Langer doesn’t want to take the ‘stress’ of being in Ravi Shastri’s shoes
(Getty Images)

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एडिलेड ओवल टेस्ट मैच में 36 रन पर ऑलआउट होने के बाद भारतीय क्रिकेट टीम को काफी आलोचना झेलनी पड़ रही है। कप्तान विराट कोहली के साथ कोच रवि शास्त्री भी आलोचकों के निशाने पर हैं। ऐसे में शास्त्री के सामने दूसरे टेस्ट मैच से पहले अपने खिलाड़ियों को प्रेरित करने की चुनौती है, जो कि किसी भी कोच के लिए आसान नहीं होगा।

ऑस्ट्रेलियाई टीम के कोच जस्टिन लैंगर से जब उनसे पूछा गया कि अगर वो शास्त्री की जगह होते तो क्या करते तो उन्होंने कहा कि उन्हें अपनी जिंदगी में और ज्यादा तनाव की जरूरत नहीं है।

वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान लैंगर ने कहा, “ये मेरा काम नहीं है। मेरा पास पहले से ही बहुत तनाव है। मैं विपक्ष के साथ सहानुभूति रखता हूं और मुझे पता है कि ये कैसा लगता है। अगर भारत कोई तनाव महसूस कर रहा है, तो मुझे खुशी है कि क्रिसमस से पहले वो तनाव में हैं, म नहीं।”

सिडनी में बढ़ते कोविड-19 मामलों के बीच तीसरे टेस्ट की मेजबानी के लिए तैयार है मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड

पहले टेस्ट मैच में हार के बाद अब टीम इंडिया के दो अहम खिलाड़ी आगामी टेस्ट सीरीज से बाहर हो गए हैं। कप्तान विराट कोहली जहां पितृत्व अवकाश लेकर भारत लौट गए हैं, वहीं तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी चोट की वजह से आगामी मैचों में हिस्सा नहीं ले पाएंगे।

लैंगर ने माना कि कोहली और शमी की गैरमौजूदगी ऑस्ट्रेलिया के लिए फायदेमंद साबित होगी। उन्होंने कहा, “जाहिर है, आप कोई भी खेल खेलते हों, अगर आप उनके दो स्टार खिलाड़ियों को निकाल दें, विराट कोहली एक महान खिलाड़ी हैं और शमी टीम को जोड़कर रखता है क्योंकि वो बेहद प्रतिभाशाली है। इससे हमें फायदा मिलता है।”

उन्होंने कहा, “हमें पहले दिन जोरदार शुरुआत करनी होगी और रहाणे पर दबाव बनाना होगा क्योंकि वो इस सीरीज के लिए भारत के नए कप्तान हैं। इसलिए प्रक्रियाएं नहीं बदलतीं। जब भी आप किसी भी क्रिकेट टीम के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों को निकालते हैं, तो ये उन्हें कमजोर करता है और यही सच है।”