Australia’s Marcus Stoinis glad of no more apple attacks in England
मार्कस स्टोइनिस (Getty images)

खाली स्टेडियम में क्रिकेट खेलने की वजह से क्रिकेटर काफी निराश हैं हालांकि ऑस्ट्रेलियाई ऑलराउंडर मार्कस स्टोइनिस इसमें भी सकारात्मकता देख रहे हैं। सीमित ओवर फॉर्मेट सीरीज में हिस्सा लेने के लिए इंग्लैंड पहुंचे स्टोइनिस का कहना है कि स्टेडियम में दर्शकों के ना होने से कम से कम वो इंग्लिश फैंस के हाथों फल मारे जाने से तो बच जाएंगे।

31 साल के स्टोइनिस इंग्लैंड में पिछले साल खेले गए विश्व कप सेमीफाइनल के बाद से ऑस्ट्रेलिया टीम से बाहर थे। लेकिन कोरोना काल के दौरान इंग्लैंड दौरे पर जाने वाले वनडे-टी20 स्क्वाड में उन्हें शामिल किया गया है।

स्टोइनिस को शनिवार को दिए बयान में कहा, “हमें यहां खेलना पसंद है। बैंटर हमेशा ही अच्छा होता है। पिछले साल मेरे ऊपर एक सेब फेंका गया था लेकिन उसके अलावा सब अच्छा है। ये अलग अनुभव है। ये टीम के ऊपर होगा कि वो दौड़-भागकर (मैदान में) ऊर्जा पैदा करे।”

इंग्लैंड टीम के साथ काम करके खुश हैं पूर्व पाक क्रिकेटर अजहर महमूद

साइड स्ट्रैन की वजह से टीम से बाहर हुए स्टोइनिस ने बिग बैश लीग में मेलबर्न स्टार्स के लिए 54.23 की औसत से 705 रन बनाकर शानदार वापसी की।

टीम से बाहर होने के अनुभव पर स्टोइनिस ने कहा, “जब आप बोर्ड पर नतीजा देते हैं और आपको उसका ईनाम नहीं मिलता तो निराशा होती है। लेकिन साथ ही ऐसे लगभग पांच, छह या सात खिलाड़ी हैं जिन्हें ऐसा ही लगता होगा। इसलिए आप इससे ज्यादा प्रभावित नहीं होते, आप केवल अपना काम करते हैं। उसका ईनाम मिलना अच्छा लगता है।”

इंगलैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच तीन वनडे और तीन टी20 मैचों की सीरीज का पहला मैच 4 सितंबर से खेला जाएगा।