डेविड वॉर्नर © Getty Images
डेविड वॉर्नर © Getty Images

भले ही ऑस्ट्रेलिया के दूसरे बल्लेबाजों का बांग्लादेश में बल्ला नहीं गरज रहा हो लेकिन ओपनर डेविड वॉर्नर के बल्ले से वहां खूब रन निकल रहे हैं। बांग्लादेश के खिलाफ पहले टेस्ट में शतक लगाने के बाद दूसरे टेस्ट में भी उन्होंने शतक जड़ दिया। चटगांव टेस्ट की पहली पारी में वॉर्नर ने 234 गेंद में 123 रनों की पारी खेली। ये वॉर्नर की गेंद के लिहाज से एशियाई सरजमीं पर सबसे बड़ी पारी है। वॉर्नर ने पहली बार एशिया में एक पारी में 200 से ज्यादा गेंद खेली हैं। इससे पहले वॉर्नर ने पाकिस्तान के खिलाफ यूएई में 133 रन की पारी खेली थी लेकिन इस दौरान उन्होंने 174 गेंद ही खेली थी।

टेस्ट सीरीज में लगातार दो शतक लगाने के साथ ही वॉर्नर ने कई दिग्गज ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों की बराबरी कर ली। वॉर्नर ऑस्ट्रेलिया के छठे बल्लेबाज हैं जिन्होंने एशियाई सरजमीं पर लगातार दो टेस्ट में शतक जड़ा है। वॉर्नर से पहले माइकल क्लार्क, माइक हसी, डेमियन मार्टिन, बॉब सिम्पसन और एलन बॉर्डर भी एशिया में दो लगातार टेस्ट शतक जमा चुके हैं। माइक हसी ने तो ये कारनामा दो बार किया है। पाकिस्तानी दूतावास में हुई इमरान ताहिर से बदसलूकी

एशियाई पिचों पर प्रदर्शन में सुधार

डेविड वॉर्नर का बल्ला उछाल भरी और तेज पिच पर तो जमकर रन बरसाता है लेकिन जहां ही गेंद घूमने लगती है वॉर्नर का प्रदर्शन भी खराब हो जाता है। बांग्लादेश दौरे से पहले वॉर्नर के नाम एशिया में सिर्फ एक शतक था। इस सीरीज में उन्होंने दो शतक लगाकर अपने प्रदर्शन को कुछ सुधार लिया है। टेस्ट करियर में 48.27 का औसत रखने वाले वॉर्नर का बल्लेबाजी औसत एशिया में गिरकर सिर्फ 35.62 हो जाता है। वॉर्नर ने 15 टेस्ट में सिर्फ 1033 रन बनाए हैं।