बासिल थंपी © BCCI
बासिल थंपी © BCCI

अगले महीने इंडिया ए दक्षिण अफ्रीका में त्रिकोणीय सीरीज खेलेगी और उसके बाद एक चार दिवसीय प्रथम श्रेणी मैच खेलेगी। इस टूर्नामेंट के लिए इंडिया ए का ऐलान कर दिया गया है। टीम में ऐसे नए और प्रतिभाशाली खिलाड़ियों को मौका दिया गया है जिन्होंने घरेलू क्रिकेट और आईपीएल में बेहतरीन प्रदर्शन किया है। इनमें से एक हैं कर्नाटक के तेज गेंदबाज बासिल थंपी। थंपी इस चयन के बाद फूले नहीं समा रहे हैं।

बीसीसीआई के हवाले से थंपी ने कहा, “यह मेरे लिए सपने के सच होने जैसा है मैं सुबह से इतना खुश हूं कि इसे जाहिर करने के लिए मेरे पास शब्द कम पड़ रहे हैं।” अपने बारे में आगे बताते हुए बासिल ने कहा, “मेरा फोन बिना रुके सुबह से ही बज रहा था। मेरे परिवार वाले, दोस्त और रिश्तेदार मुझे बधाई देने के लिए फोन कर रहे थे और अपनी शुभकामनाएं दे रहे थे।”

तेज गेंदबाज थंपी जोइस समय बैंगलोर की नेशनल क्रिकेट अकेडमी में फिटनेस टेस्ट और रूटीन से गुजर रहे हैं वह आईपीएल के दौरान अपनी यॉर्कर फेंकने की क्षमता के चलते सबके आकर्षण का केंद्र बिंदु बन गए थे। जब उनसे पूछा गया कि क्या वे इंडिया ए में चयन की उम्मीद कर रहे थे। इस पर बातचीत करते हुए थंपी ने कहा, “असल में नहीं। ईमानदारी से कहूं, मैं अपने लिए छोटे लक्ष्य निर्धारित करता हूं और फिर मैं उस ओर कोशिश करता हूं। उदाहरण के तौर पर, जब मैंने क्रिकेट खेलना शुरू की थी, मैंने रणजी में खेलने के लिए अपना लक्ष्य निर्धारित किया था। ऐसे ही मैं आईपीएल में खेला और इंडिया ए की ओर से खेलना मेरा अगला लक्ष्य था जो मैंने अपने लिए सेट किया था।” [भारत बनाम वेस्टइंडीज, तीसरा वनडे, लाइव स्कोरकार्ड जानने के लिए क्लिक करें]

आईपीएल 10 में पहली बार उतरते हुए थंपी ने विश्वस्तरीय गेंदबाजों का सामना किया। उन्होंने इस टूर्नामेंट खेलने के बाद विश्वास हासिल करने का श्रेय लीग को दिया। थंपी कहते हैं कि आईपीएल में गुजरात लायंस की ओर से खेलते हुए उन्होंने अपनी बातों को प्रभावशाली तरीके से रखना सीखा है। यह गुजरात लायंस के बेहतरीन मैंनेजमेंट टीम के साथ रहकर हो पाया।

उन्होंने कहा, “मैंने आईपीएल से सबसे बड़ी चीज विश्वास को प्राप्त किया है। मैंने दुनिया के बेहतरीन हिटर्स के खिलाफ गेंदबाजी की और उन्हें कुछ हद तक रोक पाने में सफल हुआ। इसके अलावा मैंने अपने आपको व्यक्त करना- फील्ड के बाहर और भीतर भी सीखा। कैसे दबाव की परिस्थिति में प्रतिक्रिया देनी है और मैदान में ज्यादा आक्रामक रहना है।”

उत्साहित बासिल थंपी जो इस समय एनसीए में ट्रेनिंग ले रहे हैं उन्होंने कहा कि आईपीएल फाइनल के बाद उनकी सचिन तेंदुलकर से हल्की बातचीत हुई थी जिसने उन्हें आगे अच्छा प्रदर्शन करने और अपने लक्ष्य की ओर कार्य करने के लिए प्रेरित किया। थंपी ने कहा, “जब सचिन तेंदुलकर ने मुझे बुलाया तो वह मेरे लिए खुशी भरा लम्हा था। उन्होंने मुझस कहा कि वह मेरे सारे मैच देख रहे थे और उन्होंने कहा कि मैं एक दिन टीम इंडिया के लिए खेलूंगा। उस बात का मुझपर बहुत बड़ा प्रभाव पड़ा। जब मैं हर दिन अपनी ट्रेनिंग के लिए जाता हूं तो मैं मास्टर की उम्मीदों पर खरा उतरने के लिए ज्यादा प्रेरित और ऊर्जावान रहता हूं।”

बासिल अपनी आईपीएल की फॉर्म को इंडिया ए के लिए बरकरार रखना चाहते हैं और 100 प्रतिशत योगदान देना चाहते हैं।