पाकिस्‍तान के पूर्व क्रिकेटर बासित अली (Basit Ali) का कहना है कि पाकिस्‍तान के स्‍टार बल्‍लेबाज रहे जावेद मियांदाद (Javed Miandad) को टीम से निकालने में मुख्‍य भूमिका इमरान खान (Imran Khan) की रही। बासित अली का कहना है कि मौजूदा समय में पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने षडयंत्र के तहत ही मियांदाद को टीम से बाहर कर दिया था।

पाकिस्‍तान को एकमात्र 50 ओवरों का विश्‍वकप जिताने वाले कप्‍तान इमरान खान (Imran Khan) ने इस टूर्नामेंट के बाद क्रिकेट से संन्‍यास ले लिया था। वहीं, अगले वर्ष 1993 में जावेद मियांदाद को पाकिस्‍तान की टीम से साइडलाइन कर दिया गया था।

बासित अली ने 1993 से 1996 तक बतौर बल्‍लेबाज पाकिस्‍तान के लिए 50 वनडे और 19 टेस्‍ट मैच खेले। उन्‍होंने टाइम्‍स ऑफ इंडिया से बातचीत के दौरान कहा, “जावेद मियांदाद (Javed Miandad) को निकालने के लिए षडयंत्र रचा गया था। इसीलिए हमेशा मेरी तुलना मियांदाद से की जाती रही है। सच तो यह है कि मैं मियांदाद का एक प्रतिशत भी नहीं था।”

“मैं टीम में नंबर-4 पर बल्‍लेबाजी करता था। उस वक्‍त मेरा औसत करीब 55 का था। मियांदाद को हटाने के बाद मुझे नंबर-6 पर खिलाया जाने लगा। इसके बाद से ही मेरा खेल गिरता चला गया। उन्‍हें पता था कि नंबर-6 पर मुझे मुश्किल से ही बल्‍लेबाजी का मौका मिलता था।”

टाइम्‍स ऑफ इंडिया के पत्रकार द्वारा जब पूछा गया कि किस खिलाड़ी ने उन्‍हें निचले क्रम पर खेलने के लिए भेजा। इसपर उन्‍होंने कहा, “इमरान खान (Imran Khan) उस वक्‍त टीम के कप्‍तान थे लेकिन जावेद मियांदाद (Javed Miandad) को टीम से निकाल बाहर करने के पीछे उस व्‍यक्ति का हाथ था जो अक्‍सर टीम के बल्‍लेबाजों के खेलने के ऑर्डर का निर्णय करता था और वो इमरान खान ही थे।”

मियांदाद के लिए छोड़ी विश्‍व कप टीम से जगह

बासित अली ने आगे कहा, “मैं आपको एक ऐसी बात बताने जा रहा हूं जिसके बारे में शायद आपको नहीं पता हो। मैं अपने देश की वजह से अबतक चुप था। जावेद मियांदाद को 1996 विश्‍व कप के स्‍क्‍वाड में शुरुआत में जगह नहीं दी गई थी। मैं 15 सदस्‍यीय टीम का हिस्‍सा था। वो खिलाड़ियों के पास गए और खुद को टीम में लिए जाने का अनुरोध करने लगे।”

उन्‍होंने हम सभी खिलाड़ियों से कहा कि वो इस वर्ल्‍ड कप को खेलना चाहते हैं। कौन सा खिलाड़ी उन्हें अपने स्‍थान पर टीम में जगह दे सकता है। “वो पाकिस्‍तान के लिए सर्वाधिक वर्ल्‍ड कप खेलने का रिकॉर्ड बनाना चाहते थे। लिहाजा मैंने उनके लिए अपनी जगह का बलिदान दे दिया था।”

सचिन-मियांदाद ने खेले हैं सर्वाधिक विश्‍व कप

बता दें कि जावेद मियांदाद (Javed Miandad) ने संयुक्‍त रूप से सर्वाधिक विश्‍व कप खेले हैं। सचिन तेंदुलकर भी उनके बराबर ही छह विश्‍व कप खेल चुके हैं। “उस वक्‍त में अपने करियर की सर्वश्रेष्‍ठ फॉर्म में था। फिर भी मैंने मियांदाद के लिए जगह छोड़ दी क्‍योंकि मैं उनका काफी सम्‍मान करता हूं।”