ग्लेन मैक्सवेल © Getty Images
ग्लेन मैक्सवेल © Getty Images

ऑस्ट्रेलिया के ओपनर डेविड वॉर्नर भारत के खिलाफ वनडे सीरीज में कुछ खास प्रदर्शन नहीं कर सके हैं। वॉर्नर ने 3 मैच में सिर्फ 68 रन बनाए हैं। डेविड वॉर्नर के टीम इंडिया के खिलाफ फेल होने की वजह उनका बल्ला बदलना भी बताया जा रहा है। दरअसल वॉर्नर ने बांग्लादेश दौरे पर आईसीसी के नियमों के तहत अपने बल्ले में बदलाव करवाया था। वो पहले काफी भारी बल्ले से खेलते थे लेकिन अब वो हल्के और कम मोटे बल्ले का इस्तेमाल कर रहे हैं। वैसे वॉर्नर के मुताबिक उनके बल्ले बदलने से उनकी बल्लेबाजी पर कोई फर्क नहीं पड़ा है। ये भी पढ़ें: 40 हजार फीट की ऊंचाई पर हार्दिक पांड्या का सबसे बेबाक इंटरव्यू!

वॉर्नर ने कहा, ‘मैं आपको बता दूं कि मैंने अपने बल्ले का साइज पहले ही बदल लिया है। मैं पिछले कुछ हफ्तों से आईसीसी के नये नियम के मुताबिक ही बल्ले का इस्तेमाल कर रहा हूं। नये नियम के मुताबिक अब मेरे बल्ले का साइज बिलकुल वैसा ही है जैसा कि मैं अपने करियर के शुरुआती दिनों में इस्तेमाल करता था। मुझे इससे कोई तकलीफ नहीं है। जो मेरा बल्ला बनाता है मैं उसके पास गया और मैंने उससे कहा कि अब फिर से आप पहले की ही तरह बल्ले का साइज रखिये। मुझे नहीं लगता कि मेरी बल्लेबाजी में नये नियम से कोई फर्क पड़ेगा या मेरे प्रदर्शन में गिरावट आएगी।”

आपको बता दें हाल ही में आईसीसी ने क्रिकेट के खेल में नये नियमों को मंजूरी दे दी है। नये नियम के मुताबिक अब बल्ले के किनारों का साइज 40 मिलीमीटर से ज्यादा नहीं होना चाहिए और गहराई 67 मिलीमीटर से ज्यादा नहीं होनी चाहिए। वैसे वॉर्नर के मुताबिक भारी बल्ले से छक्के लगाना इतना आसान नहीं होता। उन्होंने कहा, ‘ये बिलकुल गलत है कि आप बड़े बल्ले से आसानी से गेंद को बाउंड्री के बाहर भेज सकते हैं। हम आज से 5-6 साल पहले भी गेंदों को बाउंड्री के बाहर आसानी से भेजते थे और आज भी भेज रहे हैं। आखिर में आपको उसी से खेलना से होगा जो आपको दिया जाएगा और मुझे नहीं लगता कि इससे कोई फर्क पड़ेगा।”

आपको बता दें कि भारत के खिलाफ मौजूदा सीरीज में डेविड वॉर्नर कुछ खास नहीं कर पाए हैं और लगातार फ्लॉप रहे हैं। भारत के खिलाफ वॉर्नर ने अब तक सिर्फ (25, 1, 42) रन बनाए हैं। वॉर्नर भारतीय गेंदबाजों के सामने संघर्ष करते नजर आए हैं।