BCA officials should not be allowed to mess with Bihar’s future cricket players: CAB secretary
© Getty Images

क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बिहार (CAB) के सचिव आदित्य वर्मा ने बिहार क्रिकेट एसोसिएशन (BCA) के पदाधिकारियों पर जालसाजी करने का आरोप लगाया। वर्मा का कहना है कि बीसीए के अधिकारी बिहार के होनहार क्रिकेट खिलाड़ियों के भविष्य से खिलवाड़ कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि बीसीए ने हिटलरशाही दिखाते हुए बिहार के उभरते हुए क्रिकेटर लखन राजा को बिना किसी काराण बताओ नोटिस के दो साल के लिए निलंबित कर दिया गया है।

वर्मा ने आरोप लगाया कि बीसीए के ये तथाकथित पदाधिकारी कई तथ्यों को छिपाकर आजतक अपने आपको निबंधित संस्था बताते रहे और राज्य सरकार को एमओयू के नाम पर तथा बीसीसीआई को निबंधित संस्था के नाम पर धोखा देते रहे। उन्होंने कहा कि बिहार क्रिकेट संघ निबंधन संख्या-421/2001-02 का निबंधन बिहार सरकार के निबंधन महानिरीक्षक के द्वारा 12 दिसंबर, 2008 के आदेश से रद्द किया जा चुका है। ये लोग क्रिकेट के नाम पर पैसे उगाही की दुकान चला रहे हैं। वर्मा ने राज्य सरकार से इस मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की।

वर्मा के साथ बीसीए मीडिया समिति के पूर्व चेयरमैन और अधिवक्ता संजीव कुमार मिश्र व अधिवक्ता चंद्रशेखर वर्मा ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि बीसीए अपने कारनामों से राज्य की मर्यादा गिरा रही है। इन लोगों ने राज्य सरकार से बीसीए के पदाधिकारियों की जालसाजी बंद करवाने और बिहार के क्रिकेटरों को न्याय दिलाने की मांग की।

मिश्र ने कहा कि बिहार क्रिकेट एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने नियम को ताक पर रखते हुए, बिना कारण बताओ नोटिस के उन्हें मीडिया समिति के चेयरमैन पद से हटाने का आदेश रात में जारी कर दिया।