BCCI can increase the number of complimentary tickets for state associations
© Getty Images (File Photo)

हाल ही में मुफ्त पासों की संख्या को लेकर मध्य प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन के साथ हुए विवाद के चलते बीसीसीआई को भारत और वेस्टइंडीज के बीच 24 अक्टूबर को होने वाला दूसरा वनडे इंदौर से विशाखापट्टनम शिफ्ट करना पड़ा था। दरअसल मध्य प्रदेश क्रिकेट संघ ने केवल पांच प्रतिशत पास मिलने पर मेजबानी करने में असमर्थता जतायी थी। जिसके बाद तमिलनाडु क्रिकेट संघ ने भी मेजबानी से हटने की धमकी दी है। बंगाल क्रिकेट संघ भी नाखुश है क्योंकि पहले उसे 40 प्रतिशत टिकट मिलते थे।

बोर्ड अपनी इस गलती से सबक लेकर मान्यता प्राप्त संघों को खुश करने के लिए मुफ्त पास की संख्या में बढ़ोतरी कर सकता है। प्रशासकों की समिति की शनिवार को होने वाली बैठक में इसका समाधान निकाला जा सकता है। ये पता चला है कि इसका एक जैसा समाधान नहीं निकल सकता है क्योंकि ईडन गार्डन्स, चेपॉक, वानखेड़े प्रत्येक की क्षमता अलग है।

बीसीसीआई के एक शीर्ष अधिकारी ने गोपनीयता की शर्त पर पीटीआई से कहा, ‘‘प्रशासकों की समिति की कल राजधानी में बैठक होगी। इसका एजेंडा मानार्थ पास के मसले को सुलझाना है। उच्चतम न्यायालय ने जिस नए संविधान को मंजूरी दी है उसके अनुसार 90 प्रतिशत टिकट आम जनता के लिए रखे जाने चाहिए। लेकिन इसको लेकर गंभीर व्यावहारिक मसला पैदा हो गया है और हमें तुरंत इसका समाधान ढूंढना होगा।’’