BCCI complaint, police files case in Rs 80 lakh fraud over selection in Ranji teams

रणजी ट्रॉफी की टीम में चयन किए जाने के नाम पर क्रिकेटर्स से 80 लाख रुपये की धोखाधड़ी के मामले में दिल्ली पुलिस ने मामला दर्ज किया है।

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड की एंटी करप्शन यूनिट (एसीयू) को तीन क्रिकेटर्स कनिष्क गौड़, किशन अत्री और शिवपाल शर्मा से शिकायतें मिली थीं। जिसके मुताबिक उन्हें पिछले सीजन के रणजी ट्रॉफी के लिए उत्तर पूर्वी तीन टीमों में चुने जाने की बात कही गई थी।

पढ़ें:- बीसीसीआई ने बहरुपिये को लेकर जारी की चेतावनी

जानकारी के मुताबिक यह मामला तब सामने आया जब एसीयू के अधिकारी अंशुमान उपाध्याय की तरफ से शिकायत दर्ज कराई गई।

इन तीनों से नागालैंड, मणिपुर और झारखंड टीमों में जगह दिए जाने के एवज में 80 लाख रुपए लिए गए। पुलिस अधिकारी के मुताबिक, इन क्रिकेटर्स को जो दस्तावेज दिए गए थे, उसके मुताबिक इनको टीम में चुना जा चुका हैं, वैसे बाद में यह मालूम हुआ की कागजात इनको दिए गए वह जाली थे।

पढ़ें:- ‘बोर्ड सही समय पर IPL टीमों से वर्कलोड मैनेजमेंट पर बात करेगा’

पुलिस को बताया कि एक कोच से उनको पिछले साल मिलवाया गया था, जहां उनको गेस्ट प्लेयर के तौर पर नागालैंड की टीम से खेलने की पेशकश हुई। आगे उन्होंने बताया कि उनको नागालैंड क्रिकेट टीम के कोच और कुछ सदस्यों से मुलाकात करने के लिए बुलाया गया। उनसे 5 मैच के एवज में 15 लाख रुपये देने के लिए कहा गया। उनको चयन के जाली दस्तावेज दिए गए, जिसमें उनके सलेक्शन किए जाने की बात थी।

उन्होंने नागालैंड की अंडर -19 टीम के लिए सिर्फ दो मैच खेले और फिर आगे खेलने नहीं मिला। जब इस बारे में पूछताछ की गई, तो उन्हें मालूम हुआ जो दस्तावेज बनवाए गए थे वो जाली हैं।