पूर्व पाकिस्तानी ऑफ स्पिनर सकलैन मुश्ताक (Saqlain Mushtaq) को लगता है कि बीसीसीआई ने पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) के साथ अच्छा बर्ताव नहीं किया। धोनी ने पिछले हफ्ते 15 अगस्त तो अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट के सभी फॉर्मेट्स से संन्यास का ऐलान कर दिया था। वो जुलाई 2019 में न्यूजीलैंड के खिलाफ विश्व कप सेमीफाइनल मैच खेलने के बाद से टीम इंडिया से बाहर थे।

सकलैन ने अपने यूट्यूब चैनल पर कहा, “मैं हमेशा सकारात्मक चीजें कहता हूं और कोशिश करता हूं कि नकारात्मता नहीं फैलाऊं, लेकिन मुझे लगता है कि मुझे ये कह देना चाहिए। ये एक तरह से बीसीसीआई की हार है।”

दाएं हाथ के पूर्व गेंदबाज ने कहा, “वो उन जैसे बड़े खिलाड़ियों से सही तरह से पेश नहीं आते। संन्यास इस तरह से नहीं होना चाहिए था। मैं दिल से ये बात कह रहा हूं और मुझे लगता है कि उनके कई प्रशंसक भी इस बात को मान रहे होंगे। मैं ये कह रहा हूं इसके लिए मैं बीसीसीआई से माफी मांगता हूं, लेकिन उन्होंने धोनी से अच्छा बर्ताव नहीं किया। मैं दुखी हूं।”

सकलैन ने कहा, “भगवन भविष्य में और जो फैसले वो लें उन पर अपना आशीर्वाद बनाए रखे लेकिन मुझे एक पछतावा रहेगा। मुझे लगता है कि धोनी के हर प्रशंसक को यह पछतावा रहेगा। आखिरी बार भारतीय किट में उनको खेलता देखने के बाद संन्यास लेना शानदार रहता।”

चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान धोनी फिलहाल यूएई में 19 सितंबर से शुरू होने वाले इंडियन प्रीमियर लीग के 13वें सीजन की तैयारी के लिए दुबई पहुंच गए हैं। जहां फैंस एक बार फिर अपने पंसदीदा बल्लेबाज को चौके-छक्के लगाते देख सकेंगे।

सकलेन ने कहा कि धोनी ने जरूर अलग तरीके से संन्यास लेने का सपना था। उन्होंने कहा, “खुशी है कि वो आईपीएल खेलेगा लेकिन अंतरराष्ट्रीय रिटायरमेंट की बात अलग होती है।”

उन्होंने कहा, “हर क्रिकेटर के खुश सपने होते हैं, मेरे भी थे लेकिन इंजरी की वजह से वो सच नहीं हो पाए लेकिन मेरा मानना है कि हर क्रिकेटर अपने खेल को वैसे ही खत्म करना चाहता है जैसे उसने शुरू किया था। एमएस धोनी आप खेल के सितारे और एक असली नायक हैं, हमें आप पर गर्व है।”