BCCI impose 2 year ban on cricketer Devendra Kunwar for producing forged documents
BCCI Headquarter © Getty Images

फर्जी दस्‍तावेजों की मदद से विजय हजारे ट्रॉफी में खेलने का प्रयास करने वाले उत्‍तराखंड के देवेंद्र कुंवर पर बीसीसीआई ने दो साल का बैन लगा दिया है। ट्रायल के दौरान ही देवेंद्र की चोरी पकड़ी गई थी। देवेंद्र अब दो साल तक बीसीसीआई और उत्‍तराखंड क्रिकेट एसोसिएशन से जुड़े टूर्नामेंट में नहीं खेल पाएंगे।

अमर उजाला अखबार की खबर के मुताबिक बीसीसीआई ने इस बात की पुष्टि की है कि ओडिशा की अंडर-19 टीम में शामिल रह चुके देवेंद्र कुंवर ने फर्जी दस्‍तावेजों के आधार पर घरेलू टूर्नामेंट में शामिल होने का प्रयास किया था। ट्रायल के बाद उन्‍हें 10 दिन के कैंप के लिए चुना गया था।

देवेंद्र को उस वक्‍त कैंप से हटा दिया गया जब उनके दस्‍तावेजों के फर्जी होने की पुष्टि हो गई। उत्‍तराखंड क्रिकेट एसोसिएशन की तरफ से बताया गया कि देवेंद्र कुंवर ने तीन अलग-अलग स्‍थानों पर तीन अलग-अलग प्रमाणपत्र लगाए हैं। सभी में अलग आयु होने की बात बताई जा रही है। जानकारी के मुताबिक ओडिशा की तरफ से ट्रायल देते वक्‍त देवेंद्र का प्रमाणपत्र ओडिशा का ही था।

बता दें कि इससे पहले अंडर-19 टीम में अपनी जगह पक्‍की करने के लिए तीन अन्‍य क्रिकेटरों पर भी ऐसे ही आरोप लगे थे। बीसीसीआई के समक्ष पूछताछ के दौरान सभी ने अपना अपराध मान लिया था।

अत्‍तराखंड को अपनी अंडर-16 टीम के लिए कम उम्र के खिलाड़ी भी इस वक्‍त नहीं मिल रहे हैं। जानकारी के मुताबिक राज्‍य संघ ने सही उम्र का पता लगाने के लिए 25 बच्‍चों के बोन टेस्‍ट कराए थे, जिसमें से 13 बच्‍चे टेस्‍ट में फेल हो गए।