टीम इंडिया © Getty Images
टीम इंडिया © Getty Images

बीसीसीआई एक नया नियम लेकर आई है जो मैच के बाद होने वाली प्रेजेंटेशन सेरेमनी का नक्शा बदल देगा। इस नए नियम के मुताबिक मैच के बाद होने वाली प्रेजेंटेशन सेरेमनी में स्टेट असोसिशन के सिर्फ एक प्रतिनिधि के खड़े होने की अनुमति होगी। इसके पहले अंतरराष्ट्रीय मैच की मेजबानी के दौरान स्टेट असोसिएशन सारे सदस्यों को खड़ा कर देता था, लेकिन अब तेजी से आने वाली स्पॉन्सरशिप डील्स के कारण स्पॉन्सर भी दिखना चाहते हैं।

बहरहाल, इसलिए नए नियम के मुताबिक अगर राज्य का मंत्री, राजनेता या प्रशासक इस सेरेमनी का हिस्सा बनन चाहते हैं तो उन्हें स्टेट असोसिएशन मेंबर का कोटा लेना होगा। इसके अलावा बीसीसीआई अधिकारियों को अलग से जगह दी जाएगी। बीसीसीआई ने पहले से ही सभी असोसिएशन्स को इन बदलावों के बारे में बता दिया है। भारत और न्यूजीलैंड के बीच तीसरे टी20 के दौरान, केसीए स्पोर्ट्स मिनिस्टर को प्रेजेंटेशन सेरेमनी में शामिल होना था इस नियम के मुताबिक अगर अगली बार से ऐसा हुआ तो केसीए अधिकारी को अपनी जगह उन्हें देनी होगी।

यह स्पॉन्सर्स को देखते हुए एक उत्साही बदलाव है, जो गेम में अच्छा खासा रुपया खर्च करते हैं, इसलिए वे प्राइज को अपने हाथ से देने के हकदार हैं। एक बोर्ड अधिकारी ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया, “हमने सभी असोसिएशन को बताया है कि आप पोस्ट मैच ईवेंट के लिए एक मेंबर को नॉमिनेट कर सकते हैं। इसके मुताबिक चीफ मिनिस्टर, मिनिस्टर या उस स्टेट असोसिएशन से कोई एक अधिकारी हो सकते हैं। एक वक्त था जब हम पोस्ट मैच प्रेजेंटेशन में एक लंबी लाइन देखते थे जिसा कोई मतलब नहीं होता था। वो चीजें अब बंद हो गई हैं।”

आज के ही दिन सचिन तेंदुलकर ने किया था अपना इंटरनेशनल डेब्यू
आज के ही दिन सचिन तेंदुलकर ने किया था अपना इंटरनेशनल डेब्यू

एमसीआई के अधिकारियों ने कहा, “हमें बीसीसीआई ने कहा था कि वहां सिर्फ एक व्यक्ति एमसीए प्रतिनिधि के तौर पर रह सकता है। शरद पवार और आशीष शेल दोनों एमसीए के पदस्थ अधिकारी थे। हमें साफतौर पर बोला गया था कि हम या तो पवार साहब को इजाजत दें या फडणवीस को।”

क्यों कोई पेटीएम वाला चाहेगा कि उसकी ओर से किसी राज्य का चीफ मिनिस्टर उसके कंपनी के लोगो के साथ अवॉर्ड बांटे। वे इसके लिए बहुत पैसा दे रहे हैं। पहले के दिनों में ये अलग था जब क्रिकेट में इतना पैसा नहीं हुआ करता था लेकिन चीजें अब बहुत बदल गई हैं।”