भारत बनाम पाकिस्तान © PTI
भारत बनाम पाकिस्तान © PTI

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) के प्रमुख नजम सेठी ने कहा है कि भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) ने ऑकलैंड में हाल ही में हुई अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की बैठक के दौरान सामने रखी गई नयी द्विपक्षीय श्रृंखला योजना में पाकिस्तान के साथ 19 मैच खेलने के लिए ना तो हामी भरी और ना ही उसने इससे इनकार किया। पाकिस्तान और भारत को नये भविष्य दौरा कार्यक्रम (एफटीपी) में 19 मैच खेलने हैं जो आईसीसी की सिफारिशों के अनुसार 2019 से चार साल के लिए लागू होगा।

सेठी ने यहां मीडिया से कहा, ‘‘आईसीसी ने 2019-2023 के दौरान सभी टेस्ट क्रिकेट खेलने वाले देशों के लिए एफटीपी शुरू किया है जिसमें पाकिस्तान-भारत मैच भी शामिल हैं। बीसीसीआई ने प्रस्तावित एफटीपी को ना तो स्वीकृति दी है और ना ही खारिज किया है।’’ उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने प्रस्तावित एफटीपी पर आपत्ति जताई थी क्योंकि वह चाहता था कि आईसीसी चार साल के दौरान उतने ही मैचों को शामिल करे जितने मैचों के लिए 2014 में दोनों बोर्ड के बीच हुए एमओयू में सहमति बनी थी।

सेठी ने कहा, ‘‘हमें यकीन है कि भारत आखिर में चाहेगा कि आईसीसी दो देशों के बीच मैचों के लिए एफटीपी में सरकार से अनुमति लेने का नियम जोड़े लेकिन ऑकलैंड बैठक में उन्होंने प्रस्तावित 19 मैचों को ना तो स्वीकृति दी और ना ही खारिज किया।’’ सेठी ने कहा कि पाकिस्तान ने आईसीसी को साफ कह दिया है कि वे चाहते हैं कि बीसीसीआई अपनी उन जिम्मेदारियों का पालन करे जिसका एमओयू में जिक्र है।

देशभर में दीवाली की धूम, क्रिकेट दिग्गजों ने ऐसे दी बधाई
देशभर में दीवाली की धूम, क्रिकेट दिग्गजों ने ऐसे दी बधाई

पीसीबी प्रमुख ने साथ ही स्पष्ट किया कि भारत के एमओयू के तहत उसकी दो घरेलू सीरीज के लिए नहीं आने पर आईसीसी विवाद निवारण समिति के समक्ष सात करोड़ डॉलर का मुआवजे का दावा डालने की पाकिस्तान की योजना अलग मामला है। सेठी ने कहा कि भारत ने तटस्थ स्थान पर द्विपक्षीय श्रृंखला खेलने के पाकिस्तान के प्रस्ताव से भी इनकार कर दिया था। (पीटीआई के इनपुट के साथ)