बीसीसीआई द्वारा गुरुवार को जारी की गई सालाना कांट्रैक्‍ट की सूची से पूर्व भारतीय कप्‍तान महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) के नाम को हटाए जाने के बाद से ही विवाद पैदा हो गया है. धोनी जैसे बड़े खिलाड़ी का नाम साला कांट्रैक्‍ट से हटाए जाने का उनके फैन्‍स विरोध कर रहे हैं. इसी बीच बीसीसीआई (BCCI) के एक अधिकारी की तरफ से इस मामले में सफाई दी गई है.

न्‍यूज एजेंसी पीटीआई से बातचीत के दौरान बीसीसीआई के एक अधिकारी ने बताया कि महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) का नाम सालाना कांट्रैक्‍ट की सूची से बाहर किए जाने से पहले इस पूर्व भारतीय कप्‍तान से बात की गई थी.

पढ़ें:- ये हैं इंडिया के सबसे विस्फोटक बल्लेबाज की पत्नी, सादगी में धोनी मैडम को भी देती हैं टक्कर

अधिकारी ने कहा, “मैं आपको बता दूं कि बीसीसीआई के सबसे वरिष्‍ठ अधिकारियों में से एक सदस्‍य ने महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) से बात की थी. उन्‍हें साफ बताया गया था कि क्‍योंकि आप विश्‍व कप 2019 के बाद से ही भारत के लिए नहीं खेले हो इसलिए आपका नाम केंद्रीय अनुबंध की सूची से हटाया जा रहा है.”

हाल ही में भारतीय टीम के कोच रवि शास्‍त्री (Ravi Shastri) ने एक बयान में कहा था कि धोनी भले ही वनडे क्रिकेट से संन्‍यास का ऐलान कर दे, लेकिन टी20 फॉर्मेट की बात की जाए तो उनमें अभी भी काफी क्रिकेट बचा है. टी20 विश्‍व कप 2020 (ICC T20 World Cup 2020) के लिए धोनी को खुद को आजमाना चाहिए.

पढ़ें:- सादगी से भरपूर साक्षी धोनी की ये तस्वीरें आपने देखी क्या? इससे ज्यादा खूबसूरत कुछ नहीं!

पूछा गया कि बीसीसीआई अध्‍यक्ष सौरव गांगुली, सचिव जय शाह और सीईओ राहुल जोहरी में से किसने महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) से बात की तो अधिकारी ने इसपर ज्‍यादा जानकारी देने से इनकार कर दिया.

“यह बताया जाना इतना जरूरी नहीं है कि किसने धोनी से बात की. जरूरी बात यह है कि धोनी के कद के खिलाड़ी का नाम केंद्रीय अनुबंध से हटाए जाने से पूर्व उनसे बातचीत की जानी बेहद जरूरी है.”

बताया गया कि अगर धोनी का नाम विश्‍व कप के स्‍क्‍वाड में शामिल होता है जो अक्‍टूबर 2020 में खत्‍म हो रहे मौजूदा कांट्रैक्‍ट के अंदर आता है, तो उन्‍हें सूची में शामिल किया जा सकता है.

“इससे पहले एश्यिा कप टी20 भी होना है. अगर धोनी निर्धारित संख्‍या में मैच खेलते हैं तो वो अपने आप ही इस सूची में शामिल हो जाएंगे.