बीसीसीआई (BCCI) के एंटी करप्शन यूनिट के प्रमुख अजीत सिंह ने शुक्रवार को बयान दिया है कि वो दिल्ली पुलिस से उनकी टीम को कथित बुकी संजीव चावला से सवाल पूछने की इजाजत देने की अनुमति करेंगे। चावला क्रिकेट जगत के सबसे बड़े फिक्सिंग स्कैंडल, जिसका हिस्सा दक्षिण अफ्रीका टीम के दिवंगत कप्तान हैंसी क्रोनिए (Hansie Cronje) थे, उसके मुख्य आरोपियों में से एक हैं।

चावला को गुरुवार को यूके से गिरफ्तार कर भारत लाया गया और 12 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। हालांकि चावला ने हाई कोर्ट में इस हिरासत के खिलाफ अर्जी दायर की है। इस बीच बीसीसीआई एसीयू के प्रमुख सिंह ने कहा है कि चावला से बातचीत करने से कई अहम जानकारियां सामने आ सकती हैं।

पीटीआई को दिए बयान में सिंह ने कहा, “चूंकि वो हिरासत में है, इसलिए हम दिल्ली पुलिस से संपर्क करेंगे। हम दिल्ली पुलिस से ये भी जानना चाहेंगे कि उसने अब तक क्या बातें बताई हैं। और अगर संभव हो तो हम खुद भी उससे बात करना चाहेंगे लेकिन वो पूरी तरह से दिल्ली पुलिस की इजाजत पर निर्भर करेगा।”

भारत लाया गया ‘हैंसी क्रोनिए मैच फिक्सिंग कांड’ का मुख्‍य बुकी संजीव चावला

सिंह ने कहा, “ये पुराना केस है और अगर ये हमारे कोर्ट में समयबाधित है तो उससे कोई फर्क नहीं पड़ता। हम कम से कम ताजा जानकारी हासिल कर सकते हैं जो कि पहले से लोगों को नहीं पता है। हम जान सकते हैं कि ये शख्स करप्शन में शामिल था और अगर कोई बुकी शामिल था और क्या वो बुकी अब भी सक्रिय है। अगर वो हमारी रडार में नहीं है तो कम से कम हम वो जानकारी हासिल कर सकते हैं।”

चावला को 12 दिन की हिरासत में भेजने वाले ट्रायल कोर्ट ने उन्हें 25 फरवरी तक अदालत में पेश करने का ऑर्डर दिया है। चावला पर अलग अलग जगह हुए कुल पांच मैचों की फिक्सिंग में शामिल होने का आरोप है। ब्रिटिश कोर्ट के दस्तावेजों के मुताबिक दिल्ली में जन्मा व्यापारी है जो कि 1996 में बिजनेस वीजा के साथ यूके में रहने लगा लेकिन इस बीच वो कई बार भारत आया।