BCCI’s Central contract has no relation with MS Dhoni’s future
महेंद्र सिंह धोनी (Getty images)

बीसीसीआई ने गुरुवार को अक्टूबर-2019 से लेकर सितंबर 2020 तक के लिए अपने सालाना कॉन्ट्रेक्ट की घोषणा कि जिसमें सबसे बड़ा मुद्दा रहा- महेंद्र सिंह धोनी को जगह ना मिलना। इसने सवाल खड़े किए कि क्या धोनी का युग खत्म हो गया? लेकिन अब ये पता चला है कि धोनी के लिए टीम के दरवाजे बंद नहीं हुए हैं।

बीसीसीआई के एक सीनियर अधिकारी ने आईएएनएस से कहा कि सालाना कॉन्ट्रेक्ट का देश के लिए खेलने से कोई कोई लेना देना नहीं है। अधिकारी ने कहा कि धोनी अच्छा प्रदर्शन कर भारतीय टीम में जगह बनाने की दावेदारी पेश कर सकते हैं।

महेंद्र सिंह धोनी BCCI के केंद्रीय अनुबंध की सूची से हुए बाहर, ये 5 युवा किए गए शामिल

अधिकारी ने कहा, “बात को सीधे तरीके से लीजिए। सालाना कॉन्ट्रेक्ट मिलना इस बात की गांरटी नहीं देता है कि आप देश के लिए खेल सकते हैं या नहीं। नियमित खिलाड़ियों को सालाना कॉन्ट्रेक्ट दिए जाते हैं और ईमानदारी से कहूं तो धोनी वनडे विश्व कप-2019 के बाद से नहीं खेले हैं इसलिए उनका नाम सालाना कॉन्ट्रेक्ट में नहीं है। अगर कोई इसे रास्ते बंद होने और चयनकर्ताओं से संकेत मिलने की तरह देखता है तो ऐसा नहीं है।”

टी20 विश्व में वापसी कर सकते हैं धोनी

उन्होंने कहा, “अगर वो चाहें तो अभी भी अच्छा प्रदर्शन कर राष्ट्रीय टीम में वापस आ सकते हैं और इसमें टी-20 विश्व कप भी शामिल है। ईमानदारी से कहूं तो सालाना कॉन्ट्रेक्ट का धोनी के भविष्य से कोई संबंध नहीं है। पहले भी ऐसे खिलाड़ी रहे हैं जो बिना केंद्रीय अनुबंध के खेले हैं और आप भविष्य में भी ऐसा देखेंगे। चीजों को लेकर कयास लगाने से कुछ नहीं होता।”

बीसीसीआई के बयान के मुताबिक, सालाना कॉन्ट्रेक्ट की ए प्लस कैटेगरी में कप्तान विराट कोहली, रोहित शर्मा और जसप्रीत बुमराह हैं। लेकिन पिछली बार ए कैटेगरी में रहे धोनी इस बार जगह नहीं बना पाए। धोनी के संन्यास को लेकर फैल रही अफवाहों को इससे और हवा मिल गई है। टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री ने आईएएनएस को दिए इंटरव्यू में कहा था कि धोनी को लेकर आईपीएल तक का इंतजार कीजिए।