भारतीय क्रिकेट टीम के अगले चयनकर्ता बनने की दौड़ में पूर्व क्रिकेटर वेंकटेश प्रसाद और लक्ष्मण शिवरामकृष्णनन सबसे आगे हैं। बीसीसीआई पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज एमएसके प्रसाद की चयनसमिति का कार्यकाल के खत्म होने से पहले नए सदस्यों की तलाश में है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक प्रसाद और शिवरामकृष्णनन अगले चयनकर्ता बनने की दौड़ में सबसे आगे हैं। वहीं हाल ही में चयनकर्ता के पद की रेस में शामिल हुए पूर्व गेंदबाज अजीत अगरकर में बोर्ड की कोई रुचि नहीं है।

टीओआई की खबर के मुताबिक मामले से जुड़े एक करीबी सूत्र ने कहा, “गांगुली ने सिवा के ऊपर प्रसाद की तरफ प्राथमिकता दिखाई है। जतिन प्रांजपे (वेस्ट), देवांग गांधी (ईस्ट) और सरनदीप सिंह (नॉर्थ) के पास अभी एक साल का कार्यकाल बचा है और अगर प्रसाद को भी एक साल के लिए नियुक्त किया जाता है तो अगले साल एक पूरी तरह से नई चयनमिति देखे को मिलेगी।”

फैन को गाली देने के बाद इंग्लिश ऑलराउंडर बेन स्टोक्स मुश्किल में, ICC ले सकती है बड़ा फैसला

गांगुली रविवार को चयनकर्ताओं के नियुक्त के लिए एक क्रिकेट सलाहकार समिति का गठन करेंगे जो इस मामले पर आगे फैसला लेगी। बोर्ड से जुड़े सूत्र के मुताबिक भले ही गांगुली प्रसाद को शिवरामकृष्णनन पर प्राथमिकता दे रहे हों लेकिन इस पूर्व लेग स्पिनर की नियुक्ति की संभावना फिर भी काफी ज्यादा है।

उन्होंने कहा, “शिवा ने बहुत क्रिकेट देखा है, बहुत क्रिकेट खेला है। वो कमेंटेटर भी रहे हैं। इन सारी भूमिकाओं से उन्हें काफी अनुभव मिला है। लेकिन ईमानदारी से कहूं तो प्रसाद, जूनियर चयनसमिति के सदस्य रहे हैं और उनका सीनियर चयनसमिति में नियुक्त होना स्वाभाविक होगा।”