© Getty Images
© Getty Images

स्पॉट फिक्सिंग एक ऐसा कलंक है जो समय-समय पर क्रिकेट की गरिमा को ठेस पहुंचाता रहता है। आईसीसी ने भले ही इस खेल को पास-साफ बनाए रखने के लिए कई बड़े कदम उठाए हों, लेकिन आईसीसी के कदमों के बावजूद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में समय-समय पर इस तरह की खबरें आती रहती हैं। हाल ही में ‘गार्जियन’ में छपी खबर के मुताबिक पिछले 8 हफ्तों में सटोरियों ने 3 बड़ें कप्तानों से संपर्क किया है। हाल ही में जिम्बाब्वे के कप्तान ग्रेम क्रीमर ने भी आईसीसी से इस बात की शिकायत की और बताया कि सटोरियों ने उनसे संपर्क किया।

क्रीमर के मुताबिक अक्टूबर में वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट सीरीज के दौरान कुछ सटोरियों ने उनसे संपर्क किया। हालांकि क्रीमर ने फौरन इस बात की जानकारी आईसीसी के अधिकारियों को दी। माना जा रहा है कि पिछले कुछ समय में आईसीसी से इस तरह की शिकायत अंतरराष्ट्रीय टीमों के 3 कप्तान कर चुके हैं। 2 कप्तानों के नाम का खुलासा हो गया है जबकि एक कप्तान के नाम का खुलासा नहीं किया गया है। इससे पहले पाकिस्तान के कप्तान सरफराज अहमद ने भी खुलासा किया था कि उनसे भी सटोरियों ने मैच फिक्स करने को कहा था। हालांकि सरफराज ने तुरंत आईसीसी को मामले की जानकारी दे दी थी।

इसी साल यूएई में खेले गए तीसरे वनडे से पहले एक सटोरी ने पाकिस्तान के कप्तान सरफराज अहमद से संपर्क किया जिसके बाद सरफराज ने फौरन इस बात की जानकारी पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड को दे दी। ये घटना तीसरे वनडे से पहले की बताई जा रही है। मामले पर जानकारी देते हुए पीसीबी ने कहा, ‘टीम के एक बड़े खिलाड़ी से सटोरियों ने संपर्क साधने की कोशिश की। मामले की जांच एंटी करप्शन यूनिट को सौंप दी गई है।’ अब देखना दिलचस्प होगा कि क्रीमर के खुलासे के बाद आईसीसी क्या कदम उठाती है।