© Getty Images
© Getty Images

भारत में महिलाओं की शिक्षा और उत्थान के लिए सरकार चाहे जितना प्रयास करे लेकिन एक तबका ऐसा है जो रुढ़िवादिता को गले लगाए आज भी जी रहा है। एक ऐसा ही मामला हरियाणा के सोनीपत से सामने आ रहा है। यहां के गांव देवरु की लड़की ने अपने भाइयों के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई है। उसने अपनी शिकायत में बताया है कि वह क्रिकेट खेलना चाहती है और साथ ही पढ़ाई करना चाहती है लेकिन ये बात उसके भाइयों को पसंद नहीं है और इसलिए उन्होंने उसे जान से मारने की धमकी दी है।

एफआईआर की कॉपी के मुताबिक, लड़की ने बताया है कि वह बीए सेकेंड ईयर में पढ़ती है और उसे कॉलेज में क्रिकेट खेलना पसंद है। बहरहाल, उसने कहा कि उसके भाइयों ने जबर्दस्ती उसे कॉलेज में पढ़ाई जारी नहीं रखने दी और कॉलेज ड्रॉप करा दिया। लड़की ने कहा, “जब भी मैं क्रिकेट खेलने और पढ़ाई करने की इच्छा जताती, तो वे मुझे पीटते थे। मेरे छोटे भाई ने मझे धमकी दी है कि अगर मैं फिर से कॉलेज पढ़ने जाउंगी तो वह मुझे जान से मार देगा।”

उसने कहा कि वह खुद अपनी जिंदगी के निर्णय लेना चाहती है। लेकिन उसके कॉलेज में कोई भी टीचर या स्पोर्ट्स मेंटर्स सहयोग नहीं कर रहे हैं। उसने पुलिस को बताया कि वह अपने भाईयों से दूर रहना चाहती है और जो वह पसंद करती है वहीं करना चाहती है, लेकिन ये भी कहा कि उसे अपनी जान का खतरा है।

क्रिकेट के मैदान में अब नहीं होगी छक्कों की बारिश!
क्रिकेट के मैदान में अब नहीं होगी छक्कों की बारिश!

उसकी शिकायत के आधार पर, पुलिस ने उसके भाईयों के खिलाफ धारा 506 और 34 के तहत केस दर्ज कर लिया है। पुलिस ने बताया कि उसका बड़ा भाई स्टेट होम गार्ड्स में काम करता है जबकि छोटा भाई बीए फर्स्ट ईयर में पढ़ाई करता है।

हिंदुस्तान टाइम्स के हवाले से सोनीपत सदर पुलिस स्टेशन इन-चार्ज दलवीर दांगी ने कहा, “वह रविवार को हमारे पास एक शिकायत लेकर आई थी, इसके बाद हमने उसके भाई को चेतावनी दी थी और कहा था कि वह उसे पढ़ाई करने दे और क्रिकेट खेलने दे। लेकिन जब उस लड़की ने दो दिन बाद फिर से उसी व्यवहार की शिकायत की तो, तो हमने उसके भाई के खिलाफ आपराधिक केस दर्ज कर लिया।”