Cameron Green can debut in Test series against India but need to work with ball in ODI: Justin Langer
कैमरून ग्रीन (Twitter)

ऑस्ट्रेलियाई कोच जस्टिन लैंगर ने कहा है कि शेफील्ड शील्ड टूर्नामेंट में शानदार प्रदर्शन करने वाले कैमरुन ग्रीन दिसंबर में होने वाली बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी में डेब्यू कर सकते हैं लेकिन वनडे के लिए उन्हें अभी अपनी गेंदबाजी कर और काम करना होगी। बता दें कि ऑस्ट्रेलिया को भारत के खिलाफ 27 नवंबर से तीन मैचों की वनडे सीरीज खेलनी है।

सीम ऑलराउंडर ग्रीन, विल पुकोवस्की समेत उन पांच खिलाड़ियों में शामिल हैं जिन्हें पहली बार भारत के खिलाफ टेस्ट स्क्वाड में जगह मिली है। हालिया बयान में लैंगर ने कहा था कि वो टेस्ट मैचों में सलामी बल्लेबाज की भूमिका के लिए जो बर्न्स को पुकोवस्की पर प्रायिकता देंगे लेकिन ग्रीन के बारे में पूछे जाने पर कोच ने हामी भरी।

‘क्रिकेट.कॉम.एयू’ ने लैंगर के हवाले से कहा, ‘‘वनडे क्रिकेट में वो तभी खेल सकता है अगर कुछ ओवर गेंदबाजी कर पाए क्योंकि हमने टीम को इसी तरह तैयार किया है। उसे सीमित ओवरों का अनुभव नहीं है कि उसे विशेषज्ञ बल्लेबाज के रूप में खिलाया जाए लेकिन अगर वो कुछ ओवर गेंदबाजी करता है तो वो अच्छा विकल्प बन जाता है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन टेस्ट क्रिकेट अलग है। उसने अपनी बल्लेबाजी के दम पर टेस्ट क्रिकेट में खेलने का अधिकार हासिल किया है। मुझे उसे बल्लेबाजी करते हुए देखना पसंद है। वो लंबा बल्लेबाज है और उसके पास शॉट खेलने के लिए काफी समय होता है।’’

‘ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज में भारत को कोहली की कप्तानी की कमी खलेगी’

भारत के खिलाफ चार मैचों की टेस्ट सीरीज की शुरुआत 17 दिसंबर को एडीलेड में दिन-रात्रि टेस्ट के साथ होगी। पूर्व ऑस्ट्रेलियाई ग्रेग चैपल जैसे दिग्गज ग्रीन से काफी प्रभावित हैं। चैपल का कहना है कि 21 साल का ये बल्लेबाज रिकी पॉन्टिंग के बाद सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजी प्रतिभा है जिसे उन्होंने देखा है।

ग्रीन ने कहा कि उन्हें खेलने का मौका मिले या नहीं लेकिन अपनी डेब्यू सीरीज से उन्हें काफी कुछ सीखने को मिलेगा।उन्होंने कहा, ‘‘चार दिवसीय क्रिकेट में निश्चित तौर पर मैंने टी20 की तुलना में बेहतर नतीजे हासिल किए हैं। अगर मैं नहीं खेलता हूं तो भी काफी अनुभव हासिल करूंगा और उम्मीद करता हूं कि इसका फायदा होगा।’’