कप्तान धोनी जिम्बाब्वे दौर पर जाना चाहते थे: संदीप पाटिल
फोटो साभार: www.india.com

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड की अखिल भारतीय सीनियर चयन समिति के चेयरमैन संदीप पाटिल ने मंगलवार को कहा कि भारतीय टीम के सीमित ओवरों के कप्तान महेन्द्र सिंह धौनी 11 जून से शुरू हो रहे जिम्बाब्वे के दौरे पर जाना चाहते थे। पाटिल के अलावा बीसीसीआई के सचिव अजय शिर्के ने जिम्बाब्वे दौरे के लिए टीम की घोषणा की। भारत को दौरे पर तीन एकदिवसीय मैच, तीन टी-20 मैच खेलने हैं। इसके अलावा वेस्टइंडीज के दौरे के लिए भी टीम की घोषणा की गई जहां टीम को टेस्ट श्रृंखला खेलनी है।

टीम की घोषणा के बाद पाटिल ने संवाददाता सम्मेलन में कहा, “जिम्बाब्वे दौरा मुख्यता युवा खिलाड़ियों को परखने के लिए है। जो युवा टीम वहां जा रही है उसे वहां पर अच्छा प्रदर्शन करना चाहिए। उनके लिए इससे अच्छा मौका नहीं हो सकता। इस दौरे से उन्हें काफी अनुभव मिलेगा। धौनी खुद जिम्बाब्वे के दौरे पर जाना चाहते थे ताकि वह युवा खिलाड़ियों की मदद कर सकें।”

दौरे के लिए विराट कोहली, रोहित शर्मा, अजिंक्य रहाणे जैसे सीनियर खिलाड़ियों को आराम दिया गया है। टीम में विदर्भ के सलामी बल्लेबाज फैज फैसल, पंजाब के बल्लेबाज मनदीप सिंह, हरियाणा की स्पिन जोड़ी यजुवेन्द्र चहल और जयंत यादव को टीम में जगह मिली है।

पाटिल ने कहा, “हम अपनी गेंदबाजी में विविधता चाहते थे इसलिए अक्षर पटेल, चहल और यादव को टीम में चुना गया है। बीसीसीआई के टूर्नामेंट काफी प्रतिस्पर्धी होते हैं और यह भी निश्चित तौर पर काफी रोमांचक होगा।”

जब उनसे पूछा गया कि घरेलू सत्र में एक हजार से ज्यादा रन बनाने वाले मुंबई के श्रेयस अय्यर को टीम में जगह क्यों नहीं मिली तो पाटिल का कहना था कि उनके नाम पर विचार किया गया था, लेकिन 15-16 सदस्यों की टीम में उनकी जगह नहीं बन पाई।

उन्होंने कहा, “हमने श्रेयस के नाम पर भी चर्चा की थी, लेकिन सारे खिलाड़ियों को 15-16 सदस्यों की टीम में जगह नहीं मिल सकती।”

वेस्टइंडीज दौरे पर टीम की कमान कोहली के हाथों में होगी जबकि रहाणे टीम के उप-कप्तान की जिम्मेदारी संभालेंगे। टीम में मुंबई के शार्दुल ठाकुर इकलौता नया चेहरा हैं।