Captains support is needed when a bowler is getting hit for runs amit mishra 4557250
अमित मिश्रा (Twitter)

भारतीय स्पिनर अमित मिश्रा (Amit Mishra) का कहना है कि रिस्ट स्पिन एक बेहद मुश्किल कला है। इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) में दिल्ली कैपिटल्स (Delhi Capitals) के लिए खेलने वाले गेंदबाज का मानना है कि अच्छे लेग स्पिनर को विकसित करने में अच्छी कप्तानी की जरूरत होती है।

पीटीआई-भाषा को दिए खास इंटरव्यू में मिश्रा ने कहा, ‘‘किसी भी लेग स्पिनर को एक अच्छे कप्तान की जरूरत होती है। जब गेंदबाज के खिलाफ रन बन रहा होता है तो उसे ऐसा कप्तान चाहिए होता है जो उसका आत्मविश्वास बढ़ा सके। मेरा मतलब ऐसे कप्तान से है जो लेग स्पिनर की मानसिकता को समझ सके।’’

युजवेंद्र चहल, कुलदीप यादव और राहुल चाहर को छोड़कर फिलहाल भारतीय क्रिकेट में कोई अच्छा लेग स्पिनर नहीं है। लेग स्पिन गेंदबाजी करने वाले राहुल तेवतिया की पहचान एक बल्लेबाजी ऑलराउंडर हैं।

भारत के लिए 68 मैच खेलने गेंदबाज ने कहा, ‘‘पिछले पांच-छह सालों में, हमारे पास कुछ अच्छे लेग-स्पिनर आए हैं, लेकिन जब हमारे पासे और ऐसे गेंदबाज होंगे तो हमें अधिक क्वालिटी मिलेगी, जिनके पास कौशल होगा और वे अपनी इस कला को अगली पीढ़ी के साथ साझा करेंगे। लेग स्पिन से जुड़े ज्ञान को अगली पीढ़ी को बताना जरूरी है क्योंकि ये एक कला की तरह है।’’

मिश्रा ने आईपीएल के 150 मैचों में 160 विकेट लिए है और वो सबसे अधिक विकेट लेने वाले गेंदबाजी की सूची में लसित मलिंगा (170) के बाद दूसरे स्थान पर है।

इस अनुभवी गेंदबाज ने कहा, ‘‘ मैं ऐसा बिल्कुल भी नहीं कह रहा हूं कि हमारे पास अच्छे लेग स्पिनर नहीं है, हमारे पास ऐसे कई गेंदबाज है लेकिन उनमें से ज्यादातर को मार्गदर्शन की जरूरत है। एक बार जब यह मार्गदर्शन उपलब्ध होगा तो आप बड़ी संख्या में ऐसे गेंदबाजों को देखेंगे।’’

मिश्रा ने कहा कि बल्लेबाजों ने नए शॉट इजात कर लिए है और ऐसे में टी20 फॉर्मेट में गेंदबाजों के लिए चुनौती बढ़ गई है। उन्होंने कहा, ‘‘टी20 एक ऐसा फॉर्मेट है जिसमें आप कभी ढिलाई नहीं बरत सकते। खासकर आईपीएल में, क्योंकि बल्लेबाज हमेशा आपके खिलाफ आक्रमण करना चाहते हैं। अगर आप पिछले कुछ सालों को देखेंगे तो टी20 के स्ट्रोकप्ले (बल्लेबाजों के शॉट) में कितने बदलाव आए हैं और इसी तरह गेंदबाज को भी विकसित होने की जरूरत है।’’

मिश्रा भारत के लिए आखिरी बार 2017 में खेले थे। वो 2016 में न्यूजीलैंड के खिलाफ अपने पिछले वनडे में 15 विकेट के साथ मैन ऑफ द सीरीज रहे थे। इसके बाद उन्हें सिर्फ दो टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में मौका मिला और फिर टीम से बाहर कर दिया गया।