Cheteshwar Pujara: Even Sachin Tendulkar play slow inning, nothing wrong in batting slow
Cheteshwar Pujara (File Photo) @ AFP

कंगारुओं की धरती पर (India vs Australia) टेस्‍ट सीरीज में तीन शतक जड़कर पहली बार भारत को ऑस्‍ट्रेलिया में टेस्‍ट सीरीज जिताने वाले चेतेश्‍वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) की अक्‍सर धीमी गति से रन बनाने के लिए आलोचना होती है। हालांकि वो इसपर ज्‍यादा ध्‍यान नहीं देते हैं। पुजारा का कहना है कि दिग्‍गज बल्‍लेबाज सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendular) भी परिस्थिति के हिसाब से धीमी गति से बल्‍लेबाजी करते हैं।

पढ़ें:- मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद बोले, ‘अच्छा सिरदर्द हैं रिषभ पंत’

टाइम्‍स ऑफ इंडिया से बातचीत के दौरान पुजारा ने कहा, “राहुल द्रविड़, सचिन तेंदुलकर, वीवीएस लक्ष्‍मण एक क्‍लास खिलाड़ी के तौर पर जाने जाते हैं। निश्चित तौर पर तेंदुलकर एक अलग तरह के खिलाड़ी हैं। उन्‍हें मैच के दौरान हावी होकर खेलना पसंद है। टीम में ऐसे खिलाड़ी भी रहे हैं जो टेस्‍ट क्रिकेट को इस तरह खेलते हैं जैसे उसे खेला जाना चाहिए। यहां तक की तेंदुलकर भी परिस्थिति को देखते हुए 150 गेंद पर 50 रन बना चुके हैं। ऐसा करने में कोई हर्ज नहीं है। आपको केवल परिस्थिति को समझने की जरूरत है और उसी के हिसाब से बल्‍लेबाजी करनी चाहिए।”

पढ़ें:- अजिंक्य रहाणे के लिए बंद नहीं हुए विश्व कप के दरवाजे

चेतेश्‍वर पुजारा ने कहा, “ऑस्‍ट्रेलिया दौरे के बाद फैन्‍स ने मेरे खेल को काफी सराहा। उन्‍होंने समझा कि टेस्‍ट क्रिकेट में इसी तरह बल्‍लेबाजी की जरूरत होती है। हर किसी को समझ में आया कि टेस्‍ट क्रिकेट में खेलने का तरीका काफी अलग होता है।”

चेतेश्‍वर पुजारा ने कहा, “सफेद गेंद के क्रिकेट में हमें उग्र तरीके से खेलना होता है। हमें शॉट लगाकर तेजी से रन बनाने होते हैं। सफेद गेंद के क्रिकेट के कारण ही हमारे पास इस वक्‍त ऐसे खिलाड़ी हैं जो टेस्‍ट में भी तेजी से रन बनाते हैं। मैं उनका सम्‍मान करता हूं। जब भी जजबे और स्‍ट्राइकरेट की बात करते हैं तो मैं खुद पर विश्‍वास करता हूं। मैं सच में इस बात से परेशान नहीं होता हूं कि लोग मेरे बारे में क्‍या सोचते हैं।”