Cheteshwar Pujara smashed hundred from just 73 balls while chasing 311
Pujara

चेतेश्वर पुजारा की गिनती भले ही टेस्ट क्रिकेट के शानदार बल्लेबाजों में होती हो लेकिन धीमा खेलने के चलते उन्हें अब तक सफेद गेंद क्रिकेट में ज्यादा मौके नहीं मिल पाए हैं। साल 2010 डेब्यू करने वाले पुजारा टीम इंडिया की ओर से अब तक सिर्फ 5 वनडे ही खेलने का मौका मिला हैं जिसमें उन्होंने अपना आखिरी वनडे मुकाबला साल 2014 में खेला था। यानी 8 साल से पुजारा वनडे क्रिकेट नहीं खेले हैं। हालांकि इसका उनका बल्लेबाजी पर भी थोड़ा भी असर नहीं हुआ है और अब इंग्लैंड में उन्होंने तूफानी शतक जड़ते हुए उन आलोचकों का मुंह बंद कर दिया है जो उन्हें सिर्फ टेस्ट क्रिकेट खेलने के लायक ही समझते हैं। पुजारा के बल्ले से ये तूफानी शतक इंग्लैंड में चल रहे रॉयल लंदन वनडे कप में आया है।

पुजारा ने ससेक्स की ओर से खेलते हुए वॉरविकशर के खिलाफ महज 73 गेंदों में शतक जड़ दिया। कमाल की बात ये रही कि उन्होंने सबसे पहले 51 गेंदों में अपना अर्धशतक पूरा किया और फिर ताबड़तोड़ बल्लेबाजी करते हुए अगली 22 गेंदों पर अपना शतक पूरा कर लिया। पुजारा ने 79 गेंदों पर कुल 109 रनों की पारी खेली जिसमें उन्होंने 7 चौके और 2 छक्के भी लगाए। इस दौरान उनका स्ट्राईक रेट 135.44 का रहा।

पुजारा की कमाल की पारी का सबसे बेहतरीन ओवर 45वां ओवर रहा जिसमें उन्होंने लियम नॉर्वेल की 6 गेंदों पर 22 रन बटोरे। इस ओवर में पुजारा ने 3 चौके,1 छक्का और 2 डबल्स की मदद से कुल 22 रन अपने खाते में जोड़े। इस दौरान पुजारा ने एबी डिविलियर्स के अंदाज में मैदान के चारों तरफ शॉट लगाए।

रॉयल लंदन वनडे कप में पुजारा के बल्ले से निकला ये पहला शतक था जो उनकी टीम को हार से नहीं बचा सका। वॉरविकशर ने रॉबर्ट येट्स (114) के शतक और माइकल बर्गेस (58) के अर्धशतक की बदौलत 50 ओवर में 310 रनों का स्कोर खड़ा किया। इसके जवाब में ससेक्स की टीम 306 रन ही बना पाई। पुजारा 49वें ओवर में ही पवेलियन लौट गए।