वेस्टइंडीज टीम © Getty Images
वेस्टइंडीज टीम © Getty Images

जल्दी ही वेस्टइंडीज टीम के दिन फिरने वाले हैं क्योंकि उनकी टीम में उनके सभी बड़े खिलाड़ी जल्दी ही लौट सकते हैं। हाल ही में बोर्ड और खिलाड़ियों के बीच हो रही बातचीत में प्रगति हुई है। इस दौरान डेरेन ब्रावो के साथ चल रहे गतिरोध पर ही सहमति नहीं बनी है बल्कि वेस्टइंडीज प्लेयर्स यूनियन वीपा के द्वारा सामूहिक रूप से माफी मांग लेने के बाद कायरॉन पोलार्ड, सुनील नरेन, ड्वेन ब्रावो और क्रिस गेल जैसे बड़े नाम वनडे क्रिकेट में चयन के लिए उपलब्ध रहेंगे।

इसका मतलब है कि ये सभी खिलाड़ी इंग्लैंड के खिलाफ सीमित ओवरों की सीरीज के लिए उपलब्ध रहेंगे। गेल, जिन्होंने भारत के खिलाफ खेले गए एकमात्र टी20I के साथ अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पूरे 15 महीनों के बाद वापसी की थी उन्होंने गुरुवार को बैंगलुरू में हुए एक ईवेंट के दौरान कहा कि चीजें तेजी से सुधर रही हैं और 2019 विश्व कप में खेलना जिसके लिए वेस्टइंडीज को क्वालीफाई करना बाकी है वह अभी जलती हुई ख्वाहिश है।

गेल ने कहा, “फैंस मुझे वापस वेस्टइंडीज के लिए खेलते देखकर खुश थे। उम्मीद करते हैं कि चीजें बेहतर हों। उम्मीद करता हूं कि मैं कुछ और मैच खेल पाऊं। मैं निश्चित तौर पर वर्ल्ड कप 2019 खेलना चाहता हूं। खिलाड़ियों और बोर्ड के बीच चीजें थोड़ी-थोड़ी सुधरने लगी हैं। यह बढ़िया दिखाई दे रहा है और हमें यहां से मेहनत करनी होगी ताकि मैदान पर सबसे बढ़िया खिलाड़ी आएं।”

यह समझौता इसलिए हो पा रहा है क्योंकि वेस्टइंडीज क्रिकेट बोर्ड पहले जिस बात पर पड़ा हुआ था कि राष्ट्रीय क्रिकेटरों को घरेलू क्रिकेट मैचों में खेलना होगा उससे उसने किनारा कर लिया है। गौर करने वाली बात है कि पिछले सालों में वेस्टइंडीज बोर्ड ने एक नीति बनाई थी कि वेस्टइंडीज राष्ट्रीय टीम में चयन के लिए वही खिलाड़ी उपलब्ध होंगे जो घरेलू क्रिकेट खेले होंगे। हालांकि, बोर्ड अब उससे आगे बढ़ गया है। ये भी पढ़ें-मॉर्ने मॉर्कल के नाम है एक ऐसा रिकॉर्ड जो कोई गेंदबाज नहीं तोड़ना चाहेगा!

यह माना जा रहा है कि अक्टूबर में जब सेंट्रल कॉन्ट्रेक्ट का नया राउंड प्रस्तुत किया जाएगा तो इन नियमों को औपचारिक रूप से खत्म कर दिया जाएगा। इसके अलावा खिलाड़ियों की सुरक्षा के लिए वाइट बॉल कॉन्ट्रेक्ट भी जोड़े जाएंगे।

हालांकि, वेस्टइंडीज क्रिकेट बोर्ड को खिलाड़ियों के द्वारा मांगी गई सामूहिक रूप से मांफी को मंजूरी देना बाकी है। माना जा रहा है कि इस संबंध में कॉन्फ्रेंस इस सप्ताह के अंत में आयोजित की जा सकती है और मान जा रहा है कि प्रस्ताव स्वीकार कर लिया जाएगा। डेरेन ब्रावो, जिन्हें नवंबर 2016 में निलंबत कर दिया गया था। उन्हें जिम्बाब्वे दौरे के बीच से स्वदेश वापस भेज दिया गया था जब उन्होंने ट्विटर पर बोर्ड के प्रेसीडेंट डेव कैमरून की निंदा की थी। वह भी वापसी करने को तैयार हैं।

जैसा कि सभी बड़े खिलाड़ियों के जल्दी वापसी करने की संभावनाएं हैं। यह विश्व क्रिकेट के लिए हर्ष की बात है। जैसा कि वेस्टइंडीज वनडे रैंकिंग में नौंवे स्थान पर पहुंच गई है ऐसे में 2019 विश्व कप के लिए उनका प्रत्यक्ष रूप से प्रवेश करना असंभव दिखाई देता है। ऐसे में उनके बड़े खिलाड़ियों को जोर दिखाना होगा।