क्रिस गेल ने जीत लिया मुकदमा © Getty Images
क्रिस गेल ने जीत लिया मुकदमा © Getty Images

वेस्टइंडीज के विस्फोटक बल्लेबाज क्रिस गेल ने ऑस्ट्रेलिया में फेयरफैक्स मीडिया के खिलाफ मानहानि का मुकदमा जीत लिया है। सोमवार को ऑस्ट्रेलिया के न्यू साउथ वेल्स में सर्वोच्च न्यायालय ने मीडिया कंपनी की ओर से छापी गई खबर को अप्रमाणित पाते हुए अपना फैसला सुनाया। मीडिया कंपनी ने गेल पर आरोप लगाए थे कि 2015 विश्व कप के दौरान गेल ने मसाज करने वाली एक महिला के सामने कपड़े उतार दिए थे। फेयरफैक्स नाम के मीडिया ग्रुप ने एक रिपोर्ट प्रकाशित कर इस तरह के आरोप लगाए थे। इसके बाद गेल ने ऑस्ट्रेलिया के इस मीडिया समूह के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दर्ज कराया था। गेल को इसी मुकदमे में जीत मिली है।

वेस्टइंडीज टीम की महिला थैरेपिस्ट ने गेल पर अभद्र व्यवहार का आरोप लगाया था। महिला ने बीते हफ्ते अदालत में कहा था कि साल 2015 क्रिकेट विश्व के दौरान क्रिस गेल ने उसके सामने अपना तौलिया खोल दिया था, जिस पर वह फूट-फूटकर रोई थी। इस मामले को लेकर फेयरफैक्स मीडिया ने खबरें भी छापीं थी। फेयरफैक्स मीडिया समूह से जुड़े अखबार द सिडनी मॉर्निंग हेराल्ड, द ऐज और द कैनबरा टाइम्स ने इस मामले में खबरें छापी थी। गेल और उनकी टीम के साथी खिलाड़ी ड्वेन स्मिथ ने इस घटना से साफ तौर पर इनकार किया था।

गलतियों से सीखकर लगातार अच्छा प्रदर्शन कर पाते हैं विराट कोहली: सुनील गावस्कर
गलतियों से सीखकर लगातार अच्छा प्रदर्शन कर पाते हैं विराट कोहली: सुनील गावस्कर

न्यायालय ने इस मामले में गेल के पक्ष में फैसला सुनाया। इस मामले की जूरी के चार सदस्यों में तीन महिलाएं थीं और इन्होंने पाया कि मीडिया कंपनी अपनी रिपोर्ट के पक्ष में सबूत नहीं दे सकी। द सिडनी मॉर्निग हेराल्ड ने बताया कि फैसले के बाद गेल ने कहा, “मैं जमैका से यहां अपने आप का बचाव करने और अपने व्यक्तित्व का बचाव करने आया था। आखिर में मैं इस फैसले से बहुत, बहुत खुश हूं। मेरी चिंता पैसे को लेकर नहीं अपने चरित्र को लेकर थी।” फेयरफैक्स मीडिया का कहना है कि इस मामले में सही तरह से सुनवाई नहीं हुई और वो इस फैसले के खिलाफ अपील पर विचार कर रही है। कंपनी ने कहा कि वो चाहती है कि मौजूदा जूरी को हटाकर नए सिरे से मुकदमा चलाया जाए।