Chris Jordan hopes to play more international cricket alongside Jofra Archer
इंग्लैंड टी20 टीम (Twitter)

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले टी20 मैच में शानदार प्रदर्शन करने वाले इंग्लिश गेंदबाज क्रिस जॉर्डन जोफ्रा आर्चर के साथ और मैच खेलना चाहते हैं।

शुक्रवार को साउथम्पटन में खेले गए सीरीज के पहले मैच में आर्चर और जॉर्डन दूसरी बार एक साथ खेलने उतरे थे। लेकिन इन दोनों खिलाड़ियों की दोस्ती काफी पुरानी है। गौरतलब है कि जॉर्डन ने ही इंग्लैंड टीम में आर्चर को शामिल किए जाने की सिफारिश की थी।

शनिवार को कॉफ्रेंस कॉल के दौरान जॉर्डन ने कहा, “पहला मैच कार्डिफ में उसका डेब्यू टी20 मैच था और दूसरा ये मैच, इसलिए उम्मीद कर रहा हूं कि हमें और मैच खेलने को मिलेंगे। जोफ्रा ने मुझसे कई अच्छी बातें कहीं, उसने इस बारे में बात की कि मैं ग्रुप के साथ कैसा हूं, टीम के लिए क्या कर सकता हूं और किस तरह से मैंने उसे प्रेरित किया।”

इंग्लिश क्रिकेटर इयान बेल ने पेशेवर क्रिकेट से संन्यास का ऐलान किया

व्हाइट-बॉल क्रिकेट में अपनी पहली इंग्लैंड की उपस्थिति के कुछ ही महीनों बाद, आर्चर ने पिछले साल के ड्रॉ एशेज श्रृंखला में अभिनय करने से पहले न्यूजीलैंड पर पिछले साल के नाटकीय विश्व कप फाइनल में निर्णायक सुपर ओवर फेंका।

इंग्लैंड की राष्ट्रीय टीम के लिए डेब्यू करने के कुछ महीनों बाद ही आर्चर ने विश्व कप 2019 फाइनल मैच में न्यूजीलैंड के खिलाफ रोमांचक सुपर ओवर डाला था। जिसके बाद उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एशेज सीरीज में भी प्रभावी प्रदर्शन किया था।

आर्चर के बारे में जॉर्डन ने कहा, “एक बात ये कि मैंने उससे कहा था कि जब मैं तुम्हें कैप दूंगा वो जिंदगी का एक बड़ा पल होगा लेकिन उसे बुरे समय को भी झेलना होगा। लेकिन वो जिस तरह का शख्स है, वो हमेशा इसे आगे बढ़ने का रास्ता ढूंढ लेगा।”

गेंद पर हैंड सैनिटाइजर लगाने के आरोप में सस्पेंड हुआ ये ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज

उन्होंने कहा, “मेरे लिए पिछली रात की सबसे बड़ी बात ये थी कि जोफ्रा कितनी बार मुस्कुरा रहा था। वो वास्तव में अपने खेल का मजा ले रहा था। जब वो 92 किमी प्रति घंटे की गति से गेंदबाजी कर रहा था तो मैंने उससे ये कहना शुरू कर दिया कि वो 95 तक जा सकता है।”

जॉर्डन ने आर्चर के अलावा पहले टी20 में फाइनल ओवर कराने वाले टॉम कर्रन की भी तारीफ की। उन्होंने कहा, “टीसी का फाइनल ओवर शानदार था। उसने अपनी भावनाओं को काबू में रखा, दबाव भरे हालात में शांत रहा और अपनी योजना को लागू किया जो कि सबसे अहम होता है।”