Coach Dravid defends BCCI’s decision to not allow Indian players in foreign leagues
MUMBAI Indians

इंग्लैंड के हाथों हारने के साथ ही भारत का T20 वर्ल्ड कप 2022 जीतने का सपना चकनाचूर हो गया। एडिलेड में खेले गए दूसरे सेमीफाइनल मुकाबले में इंग्लैंड ने भारत को 10 विकेट से करारी शिकस्त दी। भारत ने पहले बल्लेबाजी करते गुए 168 रनों का स्कोर खड़ा किया जिसे इंग्लैंड ने बिना कोई विकेट खोए कप्तान जोस बटलर (80 नाबाद) और एलेक्स हेल्स (86 नाबाद) की विस्फोटक पारी के दम पर 16 ओवर में हासिल कर लिया।

भारत की इस हार के बाद टीम इंडिया के कोच राहुल द्रविड़ मीडिया से मुखातिब हुए। इस दौरान द्रविड़ से भारतीय खिलाड़ियों के विदेशी लीग में खेलने को लेकर सवाल किया गया जिसके जवाब में उन्होंने कहा कि ये फैसला बीसीसीआई को करना है।

द्रविड़ ने कहा, “इसमें कोई शक नहीं कि उनके कई खिलाड़ियों को ऑस्ट्रेलिया में खेलने का तजुर्बा हैं। यह भारतीय क्रिकेट के लिए मुश्किल है क्योकि इनमें से बहुत सारे टूर्नामेंट हमारे घरेलू सीजन के समय होते हैं। यह हमारे लिए बहुत बड़ी चुनौती है और हां, हमारे बहुत से क्रिकेटर इन लीगों में खेलने से चूक जाते हैं, लेकिन यह फैसला बीसीसीआई को करना है।”

राहुल द्रविड़ ने आगे कहा कि अगर भारतीय खिलाड़ियों को विदेशी लीग में खेलने की इजाजत मिलती है तो हमारा घरेलू क्रिकेट खत्म हो जाएगा। उन्होंने कहा, “भारतीय खिलाड़ियों की जिस तरह की डिमांग है, उसे देखते हुए अगर आपने भारतीय खिलाड़ियों को विदेशी लीग में खेलने दिया, तो हमारा घरेलू क्रिकेट और रणजी ट्रॉफी खत्म हो जाएगी। हमारा घरेलू क्रिकेट और रणजी ट्रॉफी खत्म हो जाएगा। इसका मतलब होगा कि टेस्ट क्रिकेट खत्म हो जाएगा। हमने देखा है कि इसने वेस्टइंडीज क्रिकेट के साथ क्या किया है।”