Colin Munro: Ricky Ponting, Sourav Ganguly gave each other space at Delhi Capitals IPL 2019 camp
Colin Munro @IANS

न्यूजीलैंड के बाएं हाथ के बल्लेबाज कॉलिन मुनरो को इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 12वें संस्करण में दिल्ली कैपिटल्स की ओर से ज्‍यादा मैच खेलने को नहीं मिले।

मुनरो ने मौजूदा सीजन में कुल चार मैच खेले जिसमें उनका स्‍कोर 40, 3, 14 और 27 रहा। इस बाएं हाथ के अनुभवी बल्‍लेबाज का कहना है कि जब आपको अधिक मौके नहीं मिलते हैं तब हमेशा सकारात्मक रहना और टीम में मौजूद हर युवा खिलाड़ी की मदद के लिए तैयार रहना बेहद जरूरी है खासकर तब जब आप आईपीएल में खेल रहे हों।

पढ़ें: फाइनल में चेन्नई के खिलाफ मुंबई का पलड़ा भारी

बकौल मुनरो, ‘विश्व भर की टी-20 लीगों में खेलकर आपके पास जो अनुभव आया है वो आपको साझा करना होता है। मैदान पर सिर्फ 11 खिलाड़ी ही उतर सकते हैं। इसलिए आप उनसे अपने अनुभव साझा करें और उन्हें बेहतर खिलाड़ी बनाने में मदद करें। न खेलना निराशाजनक होता है लेकिन मैदान के बाहर भी आपके पास काफी काम है। जब आप नहीं खेल रहे होते हैं तो उस समय आपको अच्छा नजरिया रखना होता है और खिलाड़ियों की बाहर से मदद करनी चाहिए।’

उन्होंने कहा, ‘हां, बेहद निराशाजनक है, लेकिन अंत में आप सिर्फ चार विदेशी खिलाड़ियों के साथ खेल सकते हैं और किस स्थिति में क्या टीम संयोजन होगा यह भी काफी निर्भर करता है। आपको हकीकत में रहना होगा, आप नकारात्मक नहीं हो सकते। आपको सकारात्मकता के साथ अभ्यास पर जाना होगा।’

उनसे पूछा गया कि जब दिल्ली के लिए नहीं खेल रहे थे तो क्या कर रहे थे ? इस पर मुनरो ने कहा, ‘मैं जिम में समय बिता रहा था, आप उतना भाग नहीं सकते जितना चाहते हो क्योंकि आप किसी भी चीज को जरूरत से ज्यादा नहीं कर सकते। ऐसा करेंगे तो जब आपके सामने मैच खेलने का मौका आएगा तब आप 70 फीसदी फिट होकर जाएंगे क्योंकि आप थके हुए होंगे। साथ ही मानसिक तौर पर तरोताजा रहना अच्छा है।’

पढ़ें: जयसुंदरा पर आईसीसी ने लगाए भ्रष्टाचार के आरोप

जहां सभी दिल्ली की सफलता का श्रेय युवाओं को दे रहे हैं वहीं मुनरो ने कहा है कि इसमें पूरी टीम का हाथ है जिसमें मुख्य कोच रिकी पोंटिंग और सलाहकार सौरव गांगुली भी शामिल हैं।

उन्होंने कहा, ‘खिलाड़ी अपनी भूमिका जानते थे और उनकी कोशिश मैदान पर जाकर वह सब करने की होती थी जो उनसे कहा जाता था। खिलाड़ी गए और अपने लक्ष्य हासिल किए और एक टीम के तौर पर हमने काफी शानदार काम किया। हम सही समय पर आगे बढ़े। जिस तरह से पोंटिंग और गांगुली ने युवाओं से बात की वह शानदार था। उन्होंने हर किसी को स्वतंत्रता दी और हर किसी को अपने मजबूत पहलू पर काम करने को कहा। उन्होंने हर खिलाड़ी को वही रहने दिया जो वो हैं और इस तरीके ने अच्छा काम किया।’