पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने सोमवार को बल्लेबाज उमर अकमल (Umar Akmal) को एंटी करप्शन कोड का उल्लंघन करने के आरोप में तीन साल के लिए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से बैन कर दिया। हालांकि फैंस और अकमल के समर्थक इसे कड़ी सजा बता रहे हैं लेकिन पूर्व कप्तान रमीज रजा (Rameez Raza) ने पीसीबी के फैसले का स्वागत किया।

रजा हमेशा से ही फिक्सिंग को अपराध की श्रेणी में शामिल किए जाने की वकालत करते रहे हैं। रजा ने मंगलवार को दिए बयान में कहा कि मैच फिक्सिंग को रोकने के लिए ठोस प्रयास किए जाने की जरूरत है जैसे कि इस समय कोविड-19 महामारी को रोकने के लिए किए जा रहे हैं।

रजा के अलावा जिंबाब्वे के पूर्व क्रिकेटर और कमेंटेटर मपुमेलेलो मबांग्वा ने सोशल मीडिया पर मैच फिक्सिंग को लेकर चर्चा की। मबांग्वा ने ट्वीट किया, ‘‘ऐसा लग रहा है कि इस लड़ाई को बुरे लोग जीत रहे हैं। वह (अकमल) जाना माना नाम है, क्या ऐसा नहीं है? क्या आपको लगता है कि जेल की सजा से जंग को जीता जा सकता है।’’

जवाब में रजा ने ट्वीट किया, ‘‘जेल की सजा इससे निपटने के लिए उपयोगी हो सकती है पोमी (मबांग्वा), संभवत: आखिरी उपाय। यह कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई की तरह है, क्रिकेट जगत को बचाने के लिए सभी को आगे आना होगा: प्रशंसक, बोर्ड, हितधारक, कानून प्रवर्तन एजेंसियां, आप और मैं।’’