कोरोनावायरस (Coronavirus) से बढ़ते संक्रमण के कारण जहां एक और क्रिकेट संबंधित गतिविधियां पूरी तरह से बंद है वहीं इस महामारी के चलते क्रिकेट बोर्ड को भी काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है. अगर स्थिति लंबे समय तक ऐसे ही बनी रही तो कुछ क्रिकेट बोर्ड कंगाली के कागार पर पहुंच जाएंगे.

इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ECB) के प्रमुख टॉम हैरिसन ने कहा कि कोविड-19 (Covid-19) महामारी के कारण अगर आगामी सत्र में क्रिकेट नहीं खेला जाता है तो ईसीबी को 30 करोड़ पौंड से अधिक का नुकसान हो सकता है.

ईएसपीएन क्रिकइन्फो के अनुसार एक अन्य घटनाक्रम में इंग्लैंड के केंद्रीय अनुबंधित खिलाड़ी ईसीबी के वेतन में 20 प्रतिशत कटौती के प्रस्ताव को अस्वीकार कर सकते हैं. बोर्ड महामारी के कारण पैदा हुई चुनौतियों से पार पाने के लिये इस तरह की योजना बना रहा है. ईसीबी ने मंगलवार को वर्तमान संकट से निपटने के लिये छह करोड़ दस लाख पौंड के पैकेज की घोषणा की थी.

पेशेवर क्रिकेटर्स संघ (पीसीए) प्रमुख टोनी आइरिस को भेजे गये पत्र में हैरिसन ने महामारी से पड़ने वाले लंबी अवधि के प्रभावों को लेकर चिंता जतायी है. हैरिसन ने लिखा है, ‘‘खेलों के लिये अभी यह महामारी सबसे बड़ी चुनौती है हालांकि क्रिकेट पर इसके संपूर्ण प्रभाव का अभी पता नहीं है लेकिन यह स्पष्ट है कि यह बेहद महत्वपूर्ण होगा.’’

उन्होंने कहा, ‘‘हम केवल खेल पर कुल वित्तीय प्रभाव का अनुमान लगा सकते है जो कि कुछ समय तक स्पष्ट नहीं होगा, लेकिन अनुमानों के अनुसार पूरा क्रिकेट सत्र गंवाने पर इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट को 30 करोड़ पौंड से भी अधिक का नुकसान होगा. ’’

आइरिस को अपने पत्र में हैरिसन ने दावा किया कि वह अगले कम से कम तीन महीनों तक अपने वेतन में 25 प्रतिशत की कटौती करेंगे.

वह इन परिस्थितयों में केंद्रीय अनुबंध वाले खिलाड़ियों के वेतन में 20 प्रतिशत की कटौती चाहते हैं और उन्हें उम्मीद है कि खिलाड़ी इसे स्वीकार करेंगे.