Coronavirus effect:  NADA reduce the sample collection of athletes to 25 percent

कोविड 19 महामारी का असर भारत के डोप टेस्ट कार्यक्रम पर बुरी तरह से पड़ा है और शुरूआती नमूनों के सिर्फ 25 प्रतिशत का ही संग्रहण को सकेगा।

राष्ट्रीय डोपिंग निरोधक एजेंसी (NADA) के महानिदेशक नवीन अग्रवाल ने कहा कि नाडा ओलंपिक के लिये क्वालीफाई कर चुके खिलाड़ियों के पर्याप्त टेस्ट कर सकेगा।

पढ़ें:- ‘IPL में अच्‍छे प्रदर्शन के बावजूद धोनी T20 वर्ल्‍ड कप में नहीं बना पाएंगे जगह’

उन्होंने कहा कि नाडा के पास इस समय डोप टेस्ट के लिये नमूने इकट्ठे करने वाले नहीं है क्योंकि अधिकांश सरकारी कर्मचारी हैं जो अस्पतालों में काम करते हैं।

अग्रवाल ने कहा,‘‘ हमने डोप नमूनों की संख्या 75 प्रतिशत कर दी है। हम शुरूआती नमूनों के 25 प्रतिशत की जांच कर रहे हैं। हम अभी उन्हीं खिलाड़ियों की जांच कर रहे हैं जो डोपिंग मामले में उच्च जोखिम पर है और ओलंपिक के लिये क्वालीफाई कर चुके हैं।’’

पढ़ें:- क्‍या पुरुष टी20 विश्‍व कप के SF में भी होगा रिजर्व डे ? क्रिकेट ऑस्‍ट्रेलिया ने उठाया ये कदम

उन्होंने कहा ,‘‘अधिकांश डोप नियंत्रण अधिकारी सरकारी अस्पतालों में काम करने वाले चिकित्सा और अर्धचिकित्सा कर्मचारी हैं। मौजूदा हालात में उनकी प्राथमिकता अस्पताल और प्रभावितों की तीमारदारी है।’’

अग्रवाल ने कहा कि सारे खेल टूर्नामेंट रद्द या स्थगित होने और राष्ट्रीय शिविर बंद होने से भी संख्या में कमी आई है।