कोरोनावायरस के बढ़ते कहर के बीच क्रिकेट मैच के दौरान गेंदबाज द्वारा थूक के इस्‍तेमाल को प्रतिबंधित करने पर चर्चाओं को बाजार लंबे समय से गर्म है. इस कड़ी में सोमवार को आईसीसी की तरफ से एक अहम सिफारिश की गई. अनिल कुंबले की अध्‍यक्षता वाली आईसीसी की कमेटी ने थूक के इस्‍तेमाल पर रोक लगाने की सलाह दी है.

कोरोनरवायरस के चलते खेल संबंधित गतिविधियां फरवरी के महीने से ही रुकी हुई हैं. माना जा रहा था कि क्रिकेट दोबारा शुरू होने की स्थिति में कुछ नए बदलाव किए जा सकते हैं. ICC द्वारा जारी ताजा बयान में कहा गया, “क्रिकेट समिति ने आईसीसी मेडिकल एडवाइजरी कमेटी के अध्यक्ष डॉक्टर पीटर हारकोर्ट से लार के माध्यम से वायरस के संचरण के बढ़े हुए जोखिम के बारे में सुना. इसके बाद सर्वसम्मति से यह सिफारिश की गई कि गेंद को चमकाने के लिए लार का उपयोग वर्जित होगा.”

“समिति ने चिकित्सा सलाह पर भी ध्यान दिया कि इस बात की बहुत कम संभावना है कि पसीने के माध्यम से वायरस बढ़ सकता है.” समिति ने साथ ही यह भी सिफारिश की कि कोरोनावायरस महामारी के कारण जारी यात्रा प्रतिबंधों को देखते हुए अल्प अवधि के लिए स्थानीय मैच अधिकारियों की नियुक्ति की जानी चाहिए. साथ ही अंतरिम माप के रूप में प्रत्येक प्रारूप में एक टीम के लिए अतिरिक्त डीआरएस अपील के प्रावधान की भी सिफारिश की गई है.

समिति अब अपनी सिफारिशें जून के शुरूआत में आईसीसी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी को भेजेगी ताकि इन सिफारिशों और सुझावों को मंजूरी मिल सके.