कोविड-19 वैश्विक महामारी के चलते इस समय पूरी दुनिया में खेल की लगभग सभी प्रतियोगिताएं या तो स्थगित कर दी गई हैं या उन्हें रद्द कर दिया गया है. खिलाड़ी अपने घरों में कैद होने को मजबूर हैं. भारत में 21 दिन का लॉकडाउन घोषित है. खिलाड़ियों को आउटडोर प्रैक्टिस नहीं मिल पा रही है. सभी अलग-अलग तरह से घर पर समय बिता रहे हैं. भारतीय टेस्ट टीम के उपकप्तान अजिंक्य रहाणे ने कहा कि कोरोनावायरस के कारण लॉकडाउन (बंद) में उनके लिए सबसे सकारात्मक चीज यह है कि वह अपनी बेटी आर्या को पूरा समय दे पा रहे हैं.

भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से रहाणे का वीडियो संदेश पोस्ट किया जिसमें वह छह महीने की आर्या के साथ समय बिताने के साथ खाना बनाने में पत्नी राधिका की मदद करते हुए दिख रहे हैं. रहाणे इस वीडियो में कसरत करते और किताब पढ़ते भी दिख रहे है.

‘महेंद्र सिंह धोनी भारतीय क्रिकेट को अभी बहुत कुछ दे सकते हैं, उनपर रिटायरमेंट का दबाव मत बनाओ’

भारत के लिए 65 टेस्ट खेलने वाले रहाणे ने कहा कि उनकी दिन की शुरुआत कसरत से होती है और फिर आर्या के साथ समय बीतता है. वह इस दौरान कराटे का अभ्यास भी कर रहे हैं.

उन्होंने कहा, ‘सुबह उठकर मैं अपना वर्कआउट (कसरत) कर लेता हूं जो लगभग 30-40 मिनट का होती है. मैंने दोबारा से कराटे का अभ्यास शुरू किया है. मैं कराटे में ब्लैक बेल्ट ले चुका हूं. लॉकडाउन के कारण दोबारा से कराटे करने का मौका मिला है और कोशिश करता हूं कि हफ्ते में तीन से चार बार कराटे का अभ्यास करूं.’

90 वनडे मैचों में लगभग 35 की औसत से 2962 रन बनाने वाले रहाणे ने कहा, ‘इस लॉकडाउन का एक सकारात्मक पहलू यह भी है कि बेटी के साथ मुझे इतना समय बिताने का मौका मिला. आमतौर पर हम पूरे साल यात्रा कर रहे होते है, दौरे पर होते है. बेटी जब दिन में सोती है तब मैं पत्नी की मदद करता हूं, चाहे वह खाना बनाने का काम हो या सफाई का. खाने बनाने के बारे में उससे ‘टिप्स’ भी ले रहा हूं. हम ने फैसला किया है कि घर के काम का बोझ साझा करेंगे और मैं इसका लुत्फ उठा रहा हूं.’

वसीम जाफर ने ऑल टाइम मुंबई XI टीम का किया ऐलान, सुनील गावस्कर को बनाया कप्तान

रहाणे इसके अलावा संगीत सुनने और किताब पढ़ने के शौक को भी पूरा कर रहे है.

बकौल रहाणे, ‘इन सब से जब मुझे समय मिलता है तो मुझे संगीत सुनना पसंद है, किताबें पढ़ना पसंद है, उसको भी मैं समय दे रहा हूं. अभी मै पार्थसारथी की ‘द हॉलोकास्ट ऑफ एटैच्मेंट’ पढ़ रहा हूं. काफी अच्छी किताब है, इससे बहुत कुछ सीखने को मिल रहा है. ऐसे में दिन कैसे कट जा रहा पता ही नहीं चल रहा है. मुझे उम्मीद है कि आप सभी घर पर हो सुरक्षित हो और अपने स्वास्थ्य का ख्याल रख रहे हो.’

गौरतलब है कि कोरोना की चपेट में आकर देश में 200 से अधिक लोगों की मौत हो गई है जबकि 7 हजार से अधिक लोग इससे संक्रमित हैं.