कोविड-19 (Covid-19) वैश्विक महामारी के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए इस समय दुनिया भर में खेल की लगभग सभी प्रतियोगिताएं या तो स्थगित कर दी गई हैं या उन्हें रद्द कर दिया गया है. खिलाड़ी इस समय अपने घरों पर फैमिली के साथ समय बिता रहे हैं. इस दौरान वो घर पर खुद को फिट रखने की कवायद में जुटे हुए हैं जिसका समय-समय पर अपना वो वर्कआउट वीडियो सोशल मीडिया पर फैंस से शेयर कर रहे हैं. भारत में कोरोनावायरस के चेन को ब्रेक करने के लिए 21 दिन का लॉकडाउन है.

विराट कोहली (Virat Kohli) की अगुवाई वाली भारतीय क्रिकेट टीम के खिलाड़ियों को इस बंद में भी फिटनेस चार्ट दिया गया है और ट्रेनर निक वेब तथा फिजियो नितनि पटेल एथलीट मॉनीटरिंग सिस्टम (AMS) के जरिए खिलाड़ियों की फिटनेस पर करीबी नजर बनाए रखे हैं.

रवि शास्त्री बोले-न्यूजीलैंड दौरे पर हावी होने लगी थी थकान, COVID-19 के कारण मिले ब्रेक का किया स्वागत

निक और नितिन रख रहे खिलाड़ियों की फिटनेस पर नजर 

टीम प्रबंधन से संबंध रखने वाले एकसूत्र ने आईएएनएस को बताया कि अनुबंधित खिलाड़ियों को संभालने के अलावा निक और नितिन इन खिलाड़ियों की प्रगति के साथ-साथ एएमएस एप के जरिए उन क्षेत्रों पर भी ध्यान दे रहे हैं जहां सुधार की जरूरत है.

सूत्र ने कहा, ‘खिलाड़ी जैसे ही डाटा एप पर डालते हैं निक और नितिन उसे चैक करते हैं और हर दिन खिलाड़ियों की प्रगित को परखते हैं.’ एक पूर्व खिलाड़ी ने हाल ही में कहा था कि लॉकडाउन का मतलब यह नहीं है कि खिलाड़ी अपनी फिटनेस को दरकिनार कर लजीज खाने का आनंद लें.

विराट कोहली को मिला इंजमाम उल हक का साथ, बोले- जिसने इंटरनेशनल क्रिकेट में 70…

कोहली ने सेट किया फिटनेस स्टैंडर्ड 

सूत्र ने कहा, ‘यह खिलाड़ी काफी पेशेवर हैं. टीम में जो कल्चर कप्तान विराट कोहली ने सेट किया है उसके मुताबिक एक बार वो अपना पसंदीदा खाना खा सकते हैं लेकिन फिटनेस स्ट्रैंडर्ड की कीमत पर नहीं. एएमएस एप के लिए जरिेए वो समझ सकते हैं कि वह कब कितनी कैलोरी खा सकते हैं और कब उन्हें इससे दूर रहना है.’

खिलाड़ियों को किस तरह की एक्सरसाइज करने को कहा गया है, यह पूछने पर सूत्र ने कहा, ‘रूटीन खिलाड़ियों को ध्यान में रखकर बनाया गया है.’

गौरतलब है कि कोविड-19 से भारत में अब तक 150 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है जबकि इससे संक्रमित मरीजों की संख्या 5 हजार को पार कर गई है. दुनिया भर में इस संक्रमण से अब तक 60 हजार से अधिक लोगों की जान चली गई है वहीं लगभग 10 लाख से अधिक लोग इससे संक्रमित हैं.