Cricket Australia hopes BCCI would agree to play Day-Night Test on India’s next tour; Can make pink-ball Test permanent feature in Adelaide
Ajinkya Rahane in Australia (Getty Images)

भारतीय टीम के एडिलेड ओवल में डे-नाइट टेस्ट मैच ना खेलने के फैसले से क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया को काफी नुकसान हुआ है। एडिलेड में भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले जा रहे टेस्ट मैच के पहले दिन केवल 23,802 दर्शक स्टेडियम में पहुंचे, जो कि एडिलेड का अब तक का सबसे खराब रिकॉर्ड है।

बोर्ड के सीईओ केविन रॉबर्ट्स ने एसईएन रेडियो से इस बारे में बात करते हुए कहा, “इस बात में कोई शक नहीं है कि इस मैच में हमने अपने फैंस का एक समूह (जो डे-नाइट टेस्ट पसंद करते हैं) खोया है। हम एडिलेड में डे-नाइट टेस्ट के लौटने का इंतजार कर रहे हैं। आप देखें कि जिस तरह से फैंस ने इस फॉर्मेट को अपनाया है। मैं डे-नाइट टेस्ट का समर्थक हूं लेकिन मेरी सोच से फर्क नहीं पड़ता है, फैंस की सोच मायने रखती है।”

ये भी पढ़ें: पहली गेंद पर आउट हुए शमी, भारत की पारी 250 रन पर सिमटी

रॉबर्ट्स को उम्मीद है कि बीसीसीआई अगले ऑस्ट्रेलिया दौरे पर गुलाबी गेंद से टेस्ट खेलने के लिए राजी हो जाएगा। उन्होंने कहा, “उम्मीद करते हैं। हम एक समय पर एक ही कदम उठाएंगे। हम टेस्ट क्रिकेट के बारे में उनकी अलग सोच का सम्मान करते हैं लेकिन उम्मीद करते हैं कि समय के साथ और फैंस की भावनाओं को देखते हुए हम डे-नाइट टेस्ट खेल सकेंगे।” भारत फिलहाल विश्व क्रिकेट की उन टीमों में से है जिन्होंने अभी तक टेस्ट क्रिकेट नहीं खेला है।

एडिलेड टेस्ट के दौरान ही पर्थ के नए स्टेडियम में होने वाले दूसरे टेस्ट मैच से टिकट की बिक्री शुरू हो गई है। हालांकि 60,000 की क्षमता वाले इस स्टेडियम की टिकट बिक्री उतनी आशाजनक नजर नहीं आ रही है। इस बारे में सीईओ ने कहा, “मेरा मानना है कि ये इसके हमारे कैंलेडर में स्थाई ना होने की वजह से है। ये नया वेन्यू है, क्रिसमस भी करीब है। उम्मीद है कि एडिलेड टेस्ट पूरे पांच दिन चलेगा और क्रिकेट कम्यूनिटी इससे प्रेरित होकर बड़ी संख्या में यहां आएगी।”