Cricket Fraternity wishes Rahul Dravid Happy Birthday: Sachin Tendulkar calls him headache for bowlers
सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़ (Getty images)

क्रिकेट इतिहास के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में से एक सचिन तेंदुलकर ने पूर्व साथी खिलाड़ी राहुल द्रविड़ को 47वें जन्मदिन की बधाई दी। तेंदुलकर ने अपने कप्तान रहे चुके द्रविड़ को गेंदबाजों के लिए सिरदर्द बताया। तेंदुलकर ने ट्वीट किया, “जन्मदिन मुबारक हो जैमी। आपने जिस तरह से बल्लेबाजी की वो गेंदबाजों के लिए सिरदर्द बन जाता था। ये जन्मदिन अच्छा रहे दोस्त।”

अपनी क्लासिक बल्लेबाजी शैली और भारत को कई बार मुश्किल परिस्थितियों के निकालने की वजह से ‘दीवार’ नाम से मशहूर द्रविड़ ने भारत के लिए 164 टेस्ट मैच, 334 वनडे और एक टी-20 मैच खेला है। उनके नाम टेस्ट में सबसे ज्यादा गेंदें खेलने का रिकार्ड है। 16 साल के करियर में दाएं हाथ के इस पूर्व बल्लेबाज ने 31, 258 गेंदें खेली हैं। द्रविड़ ने टेस्ट मैचों मे सचिन की तुलना में 3,000 ज्यादा गेंदें खेली हैं।

द्रविड़ ने टेस्ट मैचो मे कुल 13,288 रन बनाए। इसमे 36 शतक शामिल है। 334 वनडे मैचों में द्रविड़ के नाम 10,889 रन हैं। इनके नाम 12 शतक हैं। तेंदुलकर और द्रविड़ की जोड़ी ने मिलकर 6,920 रन बनाए और 20 शतकीय साझेदारियां की हैं।

वहीं आईपीएल फ्रेंचाइजी राजस्थान रॉयल्स ने अपने पूर्व कप्तान और मेंटॉर को सबसे हटकर बॉलीवुड अंदाज में बधाई दी है। फ्रेंचाइजी ने एक पोस्टर रिलीज कर द्रविड़ को जन्मदिन की बधाई दी है। ये पोस्टर बॉलीवुड महानायक अमिताभ बच्चन की चर्चित नाम दीवार लिखा है। द्रविड़ को अपने टिकाऊ खेल के लिए दीवार की उपाधि मिली थी।

इस पोस्टर का टाइटल है, “दीवार.. द वॉल।” इस टाइटल के नीचे लिखा गया है, “मेरे पास टेक्नीक है।” ये डायलॉग भी अमिताभ की इसी फिल्म के मशहूर डायलॉग, “मेरे पास मां है” से प्रेरित है जिसे शशी कपूर ने बड़े पर्दे पर मशहूर किया।

इस पोस्टर के टॉप राइट कॉनर्र पर सचिन तेंदुलकर और हर्षा भोगले के छोटे बयान भी हैं जो उन्होंने द्रविड़ के बारे में कहे हैं। सचिन के बयान में लिखा है, “दुनिया में हमेशा एक ही राहुल द्रविड़ था और है।”

स्टर पर भोगले के उस लेख का शीर्षक है जो उन्होंने नौ मार्च 2012 को उनके संन्यास के बाद मशहूर वेबसाइट ईएसपीएनक्रिकइंफो के लिए लिखा था, “द वूल्फ हू लिव्ड फॉर द पैक।”

खिलाड़ी के तौर पर क्रिकेट को अपना सब कुछ देने वाला द्रविड़ संन्यास के बाद कोच के तौर पर कई खिलाड़ियों का करियर बना चुका है जिनमें से कई इस समय राष्ट्रीय टीम का हिस्सा हैं। कुलदीप यादव, रिषभ पंत, संजू सैमसन, हार्दिक पांड्या, श्रेयस अय्यर जैसे कई युवा खिलाड़ी उनकी छत्रछाया से निकले हैं।

आईपीएल में राजस्थान के कप्तान और मेंटॉर रहते हुए भी उन्होंने कई खिलाड़ियों को काफी कुछ सिखाया। अभी द्रविड़ बैंगलोर स्थित नेशनल क्रिकेट अकादमी (एनसीए) के प्रमुख हैं।