Cricket inclusion in 2028 Olympics: ICC bets on Indian subcontinent fans

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) क्रिकेट को लॉस एंजिल्स में 2028 में होने वाले ओलंपिक खेलों में शामिल करने की कोशिश में लगा है. इसी कड़ी के तहत उसने इन खेलों को ओलंपिक में शामिल करने पर इसके फायदा गिनाए हैं. आईसीसी का मानना है कि लॉस एंजिल्स ओलंपिक में अगर क्रिकेट को शामिल किया जाता है तो इससे भारतीय उपमहाद्वीप में दर्शकों की संख्या बढ़ने के अवसर मिल सकते हैं क्योंकि यहां अन्य किसी खेल की तुलना में क्रिकेट को अति महत्व दिया जाता है. आईसीसी के अनुसार इंग्लैंड में 2019 में हुए वनडे विश्व कप को 54 करोड़ 50 लाख दर्शकों ने देखा था.

आईसीसी ने लॉस एंजिल्स ओलंपिक में क्रिकेट को शामिल करने के लिए प्रस्ताव तैयार किया है जिसकी कॉपी आईएएनएस के पास है जिसमें 2019 में भारी संख्या में दर्शकों के इस टूर्नामेंट को देखने की बात कही गई है. विश्व कप को 4.6 अरब वीडियो व्यूज मिले और यूट्यूब पर तीन करोड़ 10 लाख दर्शकों ने इसे देखा था. आईसीसी ने इन आंकड़ों की 2016 रियो ओलंपिक से तुलना की है. उन्होंने कहा, “रियो ओलंपिक को भारत में 19 करोड़ 10 लाख दर्शकों ने देखा जबकि 2019 क्रिकेट विश्व कप को 54 करोड़ 50 लाख दर्शकों ने देखा था.”

आईसीसी के क्रिकेट को लॉस एंजिल्स ओलंपिक में भेजने के प्रस्ताव को उस वक्त बल मिला जब पिछले महीने भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने 2028 के ओलंपिक में अपने पुरुष और महिला टीमों को भेजने पर सहमति जताई थी. अगर इसमें क्रिकेट को शामिल किया जाता है तो पूर्व क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़ और ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग आईसीसी के इस प्रस्ताव का समर्थन करेंगे. आईसीसी ने कहा, “रियो ओलंपिक के दर्शकों की औसत उम्र 53 थी जबकि 2019 विश्व कप के 32 फीसदी दर्शकों की उम्र 18 से 32 वर्ष के बीच थी और क्रिकेट प्रशंसक की औसत आयु 34 साल की होती है.” उन्होंने यह भी दावा किया कि 39 फीसदी क्रिकेट प्रशंसक महिलाएं होती हैं.

आईसीसी ने कहा कि अगर क्रिकेट को ओलंपिक में शामिल किया जाता है तो अमेरिका की टीम भी प्रतिभागी के रूप में इसमें शामिल हो सकती है. उन्होंने कहा कि 87 फीसदी प्रशंसक ओलंपिक में टी 20 क्रिकेट देखना चाहते हैं. आईसीसी इस बात को लेकर भी आश्वस्त है कि अगर ओलंपिक में क्रिकेट को शामिल किया जाता है तो इससे नए साझेदार जुड़ सकते हैं और इसके सदस्य देशों को वित्तीय लाभ भी मिल सकता है. आईसीसी ने अपने 92 सदस्य देशों के साथ सर्वे किया था जिसमें ज्यादातर देशों ने कहा कि अगर क्रिकेट को स्थायी तौर पर ओलंपिक खेलों में शामिल कर लिया जाता है तो उन्हें उनकी सरकार से वार्षिक वित्तीय सहायता मिल सकती है.

आईसीसी के अनुसार, सर्वे के नतीजे बताते हैं कि 74 फीसदी उसके सदस्यों का मानना है कि अगर क्रिकेट को लॉस एंजिल्स ओलंपिक में शामिल किया जाता है तो उन्हें उनकी सरकार से वित्तीय सहायता मिलेगी जबकि 89 फीसदी का कहना है कि क्रिकेट अगर स्थायी रूप से ओलंपिक खेलों का हिस्सा बनता है तो इन्हें वार्षिक वित्तीय सहायता मिल सकती है. आईसीसी के 104 सदस्य देश है जिसमें 12 फुल और 92 सहयोगी सदस्य हैं.

आईसीसी के अनुसार अगर पुरुष तथा महिला क्रिकेट को टी 20 प्रारूप में लॉस एंजिल्स ओलंपिक में शामिल किया जाता है तो इससे दर्शकों की तुलना में वित्तीय रूप से काफी लाभ मिल सकता है. आईसीसी के प्रस्ताव के अनुसार, लॉस एंजिल्स ओलंपिक के दौरान 21 जुलाई से छह अगस्त तक पुरुष और महिला टीमों के बीच टी20 टूर्नामेंट कराया जाए जिसमें आठ टीमें हिस्सा लेंगी और कुल 16 मुकाबला कराए जाएंगे.

हालांकि क्रिकेट को लॉस एंजिल्स ओलंपिक में शामिल होने के लिए परेशानी का सामना करना पड़ सकता है क्योंकि मौजूदा समय क्रिकेट ओलंपिक कार्यक्रम का हिस्सा नहीं है और लॉस एंजिल्स स्थानीय आयोजन समिति (एलओसी) को इसे अतिरिक्त खेल के रूप में लाना होगा. क्रिकेट के लिए यह एकमात्र विकल्प है क्योंकि टोक्यो 2020 और पेरिस 2024 ओलंपिक खेलों के लिए किसी अन्य खेल को शामिल नहीं किया जा सकता है.

खेलों को लॉस एंज्लिस ओलंपिक में शामिल करने की प्रक्रिया 2022 के मध्य में शुरू होगी. अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति 2023 के मध्य में खेलों को शामिल करने के एलओसी के प्रस्ताव पर कोई फैसला लेगी. क्रिकेट को बेसबॉल और सॉफ्टबॉल से कड़ी चुनौती मिल सकती है जो अमेरिका में काफी प्रसिद्ध खेल हैं. ओलंपिक से पहले 2022 में बíमंघम में होने वाले राष्ट्रमंडल खेलों में महिला टी 20 क्रिकेट का आयोजन होगा जिसमें आठ टीमें हिस्सा लेंगी.