Cricket needs to take climate change seriously: Chappell
इयान चैपल © AFP

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान ईयान चैपल ने टेस्ट क्रिकेट के भविष्य को लेकर चिंता जताई और कहा है कि खेल का लंबा फॉर्मेट टी20 और जलवायु परिवर्तन से चुनौतियों का सामना कर रहा है।

चैपल ने वेबसाइट ईएसपीएनक्रिकइंफो पर अपने कॉलम में लिखा है कि हाल ही में खत्म हुई एशेज सीरीज ने टेस्ट क्रिकेट को राहत की सांस दी है। साथ ही लिखा है कि आने वाले दिनों में टेस्ट क्रिकेट को चुनौतियों का सामना करना है।

चैपल ने लिखा है कि जो प्रशासक खेल को संभाल रहे हैं उन्हें जलवायु प्रदूषण पर ध्यान देना चाहिए। उन्होंने लिखा, “जलवायु प्रदूषण खेल के लिए बड़ी चिंता है और इसका समाधान मौन रहने वाले उन राजनेताओं को ढूंढ़ना होगा जो फैसले लेते हैं।”

ICC के पूर्ण सदस्य जिम्बाब्वे को हरा सिंगापुर ने रचा इतिहास

उन्होंने लिखा, “तापमान में भयावह बढ़ोत्तरी खिलाड़ियों की सेहत के लिए खतरनाक है। बारिश के कारण मैच में देरी हो इससे बुरी बात नहीं हो सकती लेकिन सोचिए अगर खिलाड़ी मैदान से गर्मी के कारण बाहर हो तो।”

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान ने लिखा, “ये सच्चाई है कि अगर तापमान बढ़ता है तो खिलाड़ियों को लू से बचाना होगा साथ ही त्वाचा को खराब होने से भी बचाना होगा। इस विवादित युग में संघों को सावधानी से आगे बढ़ना होगा।”

चैपल ने कहा है कि दिन में गर्मी की समस्या से बचने के लिए दिन-रात फॉर्मेट के टेस्ट मैच ज्यादा होने चाहिए। उन्होंने कहा, “इसमें कोई ताज्जुब नहीं होना चाहिए कि टेस्ट क्रिकेट को दिन-रात में खेला जाए।”

सैंट लूसिया जॉक्स को हराकर प्लेऑफ में पहुंची बारबाडोस ट्राइडेंट्स

चैपल ने लिखा, “कम बारिश के कारण भी नुकसान होता है, जो हम केपटाउन में देख चुके हैं, जहां हालिया दिनों में पानी की बहुत कमी देखी गई है।”

चैपल ने साथ ही कहा है कि भारतीय बल्लेबाज रोहित शर्मा के युवा समाजसेविका ग्रेटा थनबर्ग के जलवायु परिवर्तन के कार्यक्रम को समर्थन करना बताता है कि ये ऐसी आपदा है जो खेल के स्वभाव के लिए भी खतरा हो सकती है।

रोहित शर्मा ने जलवायु कार्यकर्ता थनबर्ग को प्रेरणादायी बताया

पिछले सप्ताह थनबर्ग ने संयुक्त राष्ट्र में जलवायु परिवर्तन पर भाषण दिया था और विश्व के दिग्गज नेताओं को आड़े हाथों लिया था।