If Ajinkya Rahane Does Not Perform Well So Time to Say Good Bye Says Virender Sehwag: भारतीय टेस्ट टीम के उपकप्तान अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) इन दिनों बेहद खराब फॉर्म से जूझ रहे हैं और वह अपनी इस फॉर्म के चलते वह आलोचकों के निशाने पर हैं. रहाणे (Ajinkya Rahane) इंग्लैंड दौरे पर पूरी तरह फ्लॉप रहे और उन्होंने यहां 7 पारियों में एक अर्धशतक की मदद से कुल 109 रन बनाए. इसके बाद से ही वह लगातार आलोचकों के निशाने पर हैं. लेकिन भारतीय टीम के पूर्व उपकप्तान और पूर्व विस्फोटक सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag) उनके समर्थन में उतरे हैं. उन्होंने कहा कि इस बल्लेबाज को अभी कम से कम एक सीरीज में मौका मिलना ही चाहिए और वह सीरीज घरेलू सीरीज होनी चाहिए.

33 वर्षीय रहाणे (Ajinkya Rahane) ने ऑस्ट्रेलिया दौरे पर जब विराट कोहली (Virat Kohli) ने पितृत्व अवकाश लिया था, तब टीम की बागडोर संभालते हुए मेलबर्न टेस्ट में शतक जड़ा था. इसके बाद से ही उनके बल्ले से कोई सेंचुरी नहीं निकली है. मेलबर्न में शतक ठोकने के बाद वह 19.86 के औसत से रन बना पाए हैं. लेकिन सहवाग ने कहा कि हर कोई खिलाड़ी अपने करियर में अच्छे और बुरे दौर से गुजरता है.

सहवाग (Virender Sehwag) सोनी स्पोर्ट्स नेटवर्क पर रहाणे के खेल की समीक्षा कर रहे थे. इस मौके पर उन्होंने कहा, ‘हर कोई अच्छे और बुरे दौर से गुजरता है. सवाल यह है कि उस दौरान आप अपने साथी खिलाड़ी के साथ कैसा बर्ताव करते हैं. क्या आप उन्हें इससे बाहर आने के लिए सपॉर्ट करते हैं या फिर उन्हें छोड़ देते है. मेरे हिसाब से जब भारत में अगली घरेलू सीरीज हो तो रहाणे (Ajinkya Rahane) को यहां मौका मिलना ही चाहिए.’

हालांकि वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag) ने आगे सख्त रुख अख्तियार करते हुए कहा, ‘अगर अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) तब घरेलू सीरीज में भी फ्लॉप हो जाते हैं तो तब आप उन्हें यह कह सकते हैं कि थैंक्यू वैरी मच.’

42 वर्षीय सहवाग (Virender Sehwag) ने आगे कहा, ‘मेरे लिहाज से जब आपका विदेशी दौरा खराब जाए तो आपको भारत में भी एक मौका मिलना चाहिए चूंकि विदेश में उस देश में आप चार साल में एक बार खेलते हैं. लेकिन भारत में आप हर साल खेलते हैं. अगर आप इस मौके को भी गंवा देते हैं तब तय है कि आपका विदेशी दौरे का खराब फॉर्म यहां भी जारी है और ऐसे में टीम से बाहर करने के अलावा फिर कोई चारा चाहीं है.