टी20 विश्व कप के बाद रवि शास्त्री (Ravi Shastri) द्वारा हेड कोच पद से इस्तीफा सौंपना लगभग साफ हो चुका है. इसके बाद यह भी रिपोर्ट आई कि अनिल कुंबले (Anil Kumble) को फिर से इस पद के लिए ऑफर किया जा सकता है. यह भी कहा जा रहा है कि अनिल कुंबले शायद प्रस्ताव को स्वीकार ना करें. ऐसे में प्रस्ताव वीवीएस लक्ष्मण (VVS Laxman) या किसी विदेशी के पास जा सकता है. सूत्रों के मुताबिक भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) और कोच रवि शास्त्री से नाराज है.

एक तरफ जहां टी20 विश्व कप के बाद रोहित शर्मा टी20 प्रारूप का दायित्व संभालने के लिए तैयार हैं वहीं ऐसी रिपोर्ट भी आई है कि कुंबले और लक्ष्मण को बीसीसीआई ने रवि शास्त्री के बाद मुख्य कोच के रूप में पदभार संभालने के लिए संपर्क किया है.

ऐसी रिपोर्ट भी आई कि टीम के भीतर कुछ खिलाड़ियों ने शिकायत की थी कि कोहली ऑफ फील्ड में जरूरत पड़ने पर पहुंच से बाहर रहते हैं जबकि महेंद्र सिंह धोनी के दरवाजे टीम के खिलाड़ियों के लिए 24 घंटे खुले रहते थे.

अपनी पहचान छिपाने की शर्त पर बीसीसीआई के पूर्व अधिकारी ने आईएएनएस से कहा, “जय शाह (बीसीसीआई सचिव) को इन सब के बारे में टीम के करीबी लोगों के माध्यम से सूचित किया गया और उन्हें यह पसंद नहीं आया. शाह ने अन्य अधिकारियों से भी सलाह ली. कुछ खिलाड़ियों से भी संपर्क किया जा रहा था और उनकी राय ली जा रही थी.”

उन्होंने कहा, “बीसीसीआई लंबे समय से उनके (कोहली-शास्त्री) पंख काटने की योजना बना रहा था और इसकी शुरूआत धोनी को मेंटर (जिसके बारे में कोहली को पता भी नहीं था) के रूप में नियुक्त करने और रविचंद्रन अश्विन को टी20 टीम में वापस लाने के साथ की गई थी. अश्विन को उनके अनुभव के बावजूद हाल ही में समाप्त हुई टेस्ट सीरीज में मौका नहीं दिया गया तो, इन सब बातों ने कहीं न कहीं अधिकारियों को नाखुश या गुस्से में डाल दिया.”

पूर्व अधिकारी ने कहा, “कुंबले को वापस लाने की योजना (कोहली के साथ पुरानी दरार को जानकर), से बोर्ड दिखा रहा है कि मालिक कौन है? हां, लक्ष्मण से भी संपर्क किया गया था. लेकिन कुंबले तभी सबसे आगे चल रहे हैं, जब वह प्रस्ताव स्वीकार करते हैं.”

इस बीच जब एमएसके प्रसाद से उनके विचारों के लिए संपर्क किया गया, तो बीसीसीआई के पूर्व मुख्य चयनकर्ता ने कहा कि वह विश्व कप के बाद ही टिप्पणी करेंगे. उन्होंने कहा, “सबसे पहले, हमें विश्व कप से पहले इन सब के बारे में बात नहीं करनी चाहिए. हमारा ध्यान मेगा इवेंट जीतने के लिए अपनी टीम का समर्थन करने पर होना चाहिए. इसलिए अभी, कुछ भी कहने का यह सही समय नहीं है.” (IANS)