भारत-न्यूजीलैंड के बीच कानपुर टेस्ट से पहले भारतीय क्रिकेट नियंत्रण बोर्ड (BCCI) विवाद में घिर गया. भारतीय खिलाड़ियों के लिए जो मेन्यू तैयार किया गया, उसमें केवल ‘हलाल’ मांस की सिफारिश की गई, जिसके बाद खूब बवाल मचा. माना जा रहा है कि भोजन की यह सूची खिलाड़ियों के पोषण को ध्यान में रखते हुए सहयोगी स्टॉफ और चिकित्सा दल ने तैयार की, जिसमें साफ स्पष्ट है कि पोर्क (सूअर का मांस) और बीफ (गौमांस) किसी भी रूप में भोजन का हिस्सा नहीं होना चाहिए.

इस विवाद के बाद बीसीसीआई कोषाध्यक्ष अरुण कुमार धूमल (Arun Kumar Dhumal) का बयान सामने आया है. धूमल ने तमाम रिपोर्ट्स का खंडन करते हुए कहा है कि कथित डाइट प्लान पर कभी चर्चा नहीं हुई और ना ही इसे लागू किया जाएगा. धूमल के मुताबिक खिलाड़ी या टीम स्टाफ को क्या खाना चाहिए और क्या नहीं, इसा बारे में बोर्ड की ओर से कभी भी कोई निर्देश नहीं दिए गए. खिलाड़ियों को अपना भोजन चुनने की स्वतंत्रता है.

बता दें कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रवक्ता और एडवोकेट गौरव गोयल ने इस सिफारिश को तुरंत वापस लेने की मांग की है. गोयल ने अपने ट्विटर हैंडल पर जारी वीडियो में कहा, ‘‘खिलाड़ी कुछ भी खाना चाहते हैं वह खायें, यह उनकी मर्जी है लेकिन बीसीसीआई को यह अधिकार किसने दिया है वह ‘हलाल’ मांस की सिफारिश करे. यह फैसला सही नहीं है. इसे तुरंत वापस लिया जाना चाहिए.’’

कल से भारत खेलेगा टेस्ट सीरीज: भारतीय टीम न्यूजीलैंड के खिलाफ 25 नवंबर से टेस्ट सीरीज की शुरुआत करेगी. पहला मैच कानपुर में खेला जाएगा, जिसके बाद मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में 3 दिसंबर से दूसरा टेस्ट मैच शुरू होगा. टीम इंडिया ने न्यूजीलैंड के खिलाफ टी20 सीरीज 3-0 से अपने नाम की थी. ऐसे में न्यूजीलैंड की टीम टेस्ट शृंखला को जीतकर सम्मान बचाने उतरेगी.